Saturday, September 30, 2017

Hastrekha Mein Tribujh Ka Matlab



Tribujh Aur Hast Rekha ( Meaning of Triangle In Palmistry )


Tribujh Jeevan Rekha Ya Aayu Rekha Par (Triangle On Lifeline)

Yadi vykti ke right hand ki lifeline ke starting mein triangle sign hai to aisa triangle us vykti ki bimari se suraksha karta hai bachpan mein aur yadi aisa triangle jeevan rekha ke end mein  health line se bana ho aise vykti ki mrityu lambi bimari ke baad hoti hai.  Yadi triangle lifeline ke center mein ho to aise vykti us tribujh ke karan rog-shok or mrityu ke bhay se chutkara paa leta hai.

Yadi vykti ke hath mein headline pr triangle hai to wo bahut shubh mana jata hai.  Agar headline ki starting mein triangle hai to bachpan mein wo vykti hosiyaar hota hai.  Yadi triangle fate line or headline se ban raha ho to aisa vykti dharmik karyo mein roochi leta hai. Yadi triangle health line or headline se ban raha ho to aise vykti ko mansik chinta bani rahati hai.

Yadi vykti ke hath mein heartline pr triangle surya rekha ki madad se ban raha hai to aisa vykti pratibhashaali hota hai.  Yadi hridya rekha pr tribhuj jeevan rekha se ban raha hai to aisa vykti dhanwan hota hai.  Yadi triangle heartline pr health line se ban raha hai to aise vykti ko blood se related disease hoti hai.

Yadi vykti ke hath mein triangle sun line pr hai to aise vykti ko kala ki field mein safalta milti hai.

Yadi vykti ke hath mein triangle fate line pr hai to aisa vykti jeevan mein ek jaisa jeevan jeena pasand karta hai.

Yadi vykti ke hath mein triangle health line pr hai to aise vykti ko lambi bimari ka samna karna padta hai.

Yadi vykti ke hath mein tringle mars line pr hai to aise vykti ka sahas dugna ho jata hai.

Yadi vykti ke hath mein triangle travel line pr hai to aise vykti yatra ke dauran durghatana ka samna karna padta hai lekin wo bach jata hai.


Thursday, September 28, 2017

Names of Lines In Hindu Palmistry

Machhli Rekha or the sign of fish is a fortunate sign, indicative of prosperity. The native occupies position of authority, achieves scholarly status and commands respect and honor.




Names of Lines In Hindu Palmistry



Shankha Rekha denotes a pious life, scholarship, greatness and a spirit of renunciation in spite of one being worldly.

Pataaka Rekha indicates greatness and renunciation, piousness and strength of character.


Shivalaya is a sign of temple in the hand is indicative of a rich and great personage having exalted position in life.

Vriksha Rekha is very auspicious when found in the end of the fate, Apollo and ambition lines.

Urdho Rekha indicates ambitions, property, honor and professional success.

Sarpa Rekha indicates fickleness regarding the peculiar characteristics of that line.



Hindu Palmistry Signs


Til (Mole) – On Lines gives bad results. On mounts decreases the particular mount efficiency. On fingers decreases the particular finger efficiency.


Fish Tail/Fish Sign (Macch Rekha/Macchli) – Wealth and fame, travel to overseas (abroad).


Trishul (Trident) – Always gives good results. On Sun Line increases wealth and fame. On Fate Line gives good fortune.


Mandir (Temple) – Always gives good results.  Donate Money.


Magarmacch (Crocodile) – Same as Fish Sign.


Shankh (conch) – Same as Fish sign.


Chatra, Dhand, Dhawja, Chawar – Always gives good results. Gives good position in government service.


Pataka (Flag)– Always gives good results. Increases spirituality.


Yavmala – Always gives good result. Increases wealth.


Darpan (mirror) – Always gives good results. Spiritual leader.


Ped (Tree) – Always gives good results. Increases wealth.


Hath Ki Mukhya Rekha - Hastrekha


Hath Ki Mukhya Rekha - Hastrekha


Hath Ki Mukhya Rekha - Hastrekha Vigyan


Hath Ki Mukhya Rekhaein

Hast Rekha Shastra mein hatheli ki rekhao ka vishesh mahatv hai. Is mein sammalit lakshan jaise cross, sitare, varg aur ardhchandrakar ka adhyyan hatheli dwara kiya jata hai. Ye rekhae vykti ka bhavishya, shubh sanket darshati hai. In sanketo ka nirman vykti ke vichar aur karmo par bhi nirbhar hota hai. Ya rekhae apne naam ke anusar parinam deti hai. Hastrekhavid dawara hastrekha jo vishva bhar mein prachalit hai unka vivran neeche kiya ja raha hai:-


Mastak Rekha | Head Line

Mastik rekha ka arambh tarjani ungli ke neeche se hota hua hatheli ke doosari taraf jata hai jab tak uska ant nahi ho. Jyadatar ye rekha jeevan rekha ke arambhik bindu ko saparsh karti hai. Ye rekha vykti ke manshik istar aur budhi ke vishleshan ko, seekhne ki vishisht vidhya snachar sheli aur vibhinn khsetro ke vishay mein jannana ki ikccha ko darshati hai.


Hridy rekha | Hriday Rekha

Hridy rekha ka udgam knistha ungali ke nike se htheli ko par krta hua trjni ungali ke nike smapt hota hai. yh htheli ke upri hisse men ungaliyon ke thik nike hoti hai. yh hridy ke prakritik aur mnovaijnyanik str ko drshati hai. yh romans ki bhavnaon, mnovaijnyanik shnshkti, bhavnatmk sthirta aur avsad ki snbhavnaon ka vishlesn krne ke sath hi sath hridy snbndhit vibhinn phluon ki bhi vyakhya krti hai.


Jivan rekha | Jeevan Rekha

jivn rekha angauthe ke adhar se niklti hui, htheli ko par krte hue vritt ke akar me klai ke pas smapt hoti hai. yh sbse vivadaspd rekha hai. yh rekha sharirik shkti aur josh ke sath shrir ke mhtvpurn angaon ki bhi vyakhya krti hai. sharirik sudridheta aur mhtvpurn angaon ke sath smnvy, roga prtirodhk ksmta aur svasthy ka vishlesn krti hai.


Bhagay rekha | Bhagya Rekha

Bhagay rekha klai se arnbh hoti hui kndr prvt se hote e huye jivn rekha ya mstisk ya hridy rekha tk jati hai. yh rekha un tthyon ko bhi drshati jo vykti ke niyntrn ke bahr hain, jaise shiksa snbndhit nirny, kairiyr viklp, jivn sathi ka kunav aur jivn me sflta evn viflta adi.


Sury rekha | Surya Rekha

sury rekha ko apolo rekha, sflta ki rekha ya buddhimtta ki rekha ke nam se bhi jana jata hai. yh rekha klai ke pas kndr prvt se niklkr anamika tk jati hai. yh rekha vykti ke jivn me prsiddhi, sflta aur prtibha ki bhvisyvani krti hai.


Svasthy rekha | Swasthya Rekha

svasthy rekha ko budh rekha ke rup men bhi jana jata hai . yh knistha ke nike budh prvt se arnbh ho kr klai tk jati hai. is rekha dvara lailaj bimari ko jana ja skta hai. iske dvara vykti ke samany svasthy ki bhi jankari milti hai.


Yatra rekhaen | Yatra Rekha

ye ksaitij rekhaen klai aur hridy rekha ke bik htheli ke vistar pr sthit hai. yh rekhaen vykti ki yatra ki avdhi ki vyakhya, yatra men badhaon aur sflta ka samna ttha yatra me vykti ke svasthy ki dsha ko bhi drshati hai.


Vivah rekha | Vivah Rekha

Aadi rekhaen knistha ke bilkul nichey aur hridy rekha ke oopr sthit vivah rekhaen khlati hai. yh rekhaen rishton men atmiyta, vaivahik jivn men khushi, vaivahik dnpti ke bik prem aur sneh ke astitv ko drshata hai. vivah rekha ka vishlesn krte smy shukr prvt aur hridy rekha ko bhi dhyan me rkhna kahiye.


Krdhni rekhaen | Kardhani Rekha

Krdhni rekha ka arnbh ardhvritt akar men knistha aur anamika ungali ke mdhy men aur ant mdhyma ungali aur trjni pr hota hai. ise gardl rekha ya shukr ka gardl bhi khte hain. yh vykti ko ati snvednshil aur ugar bnati hai. jin vyktiyon me gardl ya shukr rekha pai jati hai vh vykti ki dohri mansikta ko drshata hai.


Simian Rekha | Simian Line

Jo rekha hriday rekha aur mastak rekha ko ek karti hai usko simian rekha, simian fold, simian crease ke roop mein bhi jana jata hai. Ye ek durlabh rekha hai, mastak aur hriday ke sanyojan ka partinidhitva karti hai. Ye simian rekha vykti me mansik dhairya aur swandensheelta ko darshati hai.



Totka Dushman Se Mukti Pane Ke Liye (Remedy For Get Rid Of Enemy)




dusham se peecha chudane ke totka upay



Kya Aap Apne Dushman Se Dukhi Ho???

Aap apne dushman ko jaan se marne, uska nash karne, usko shant karne aur vash mein karne ka upay ya totka dekh rahein to is post mein diya gaya upay aapke kaam aa sakta hai.  Aap apne dushman ko sabak sikhana chahate hai ya chukara pana chahate hai to is post mein diye gaye upay ko aajmay. Is upay ko karne ke baad aapka dushman aapke saamne haar maan lega aur aapki life se humesa ke liye nikal jaayga ya door bhag jaayga.


Aajkal har kisi ki jindgi mein koi na koi dushman bana hua hai aur majje ki baat ye hai ki dushman aur koi nahi ghar ka hi hota hai chacha-chachi, bhai-bhabhi, devrani-jaithani aur ya phir koi najdeek ka ristedaar ya business partner.  

Aap Apne Dushman Se Badla Lena Chahate Ho??

Aajkal jyadatar dushmani paiso ko lekar ke hoti hai aur ghar parivar mein jameen aur jaayadaad ko le kar ke hoti hai aur aajkal aay din sunane mein aata hai bete ne maa-baap ka khoon kar diya jameen-jaaydad ke laalach mein aa kar ke aur baad mein puri jindgi jail mein nikalti hai.  Aajkal bahar dushman kam hote hai balki ghar mein aur office mein or ristedaar hi dushman ban jaate hai.


Kabhi kabhi insaan ka kudh ka bhagya bhi uska dushman ban jata hai kyuki har jagah usko maayusi milti hai aur kyuki uska bhagya uska sath hi nahi deta hai to parinaamswaroop uske bahut sarein dushman ya phir aise logo ki sankhya bahut bad jaati hai jo usko pasand nahi karte hai kyuki aap sab jaante hai ki jiske pass aaj accha business hai aur paisa hai log usko hi poochte hai aur jiske pass kuch nahi hai usko koi nahi poochta hai.


Dushman Se Bachne Ka Upay


1.  Dushman se bachne ke liye ya uske dwara kiye ja rahein kaale jadu se bachne ke liye aap rozana hanuman chalisa ka path karein aur mangalwar ko hanuman mandir jaroor jaay.  Aisa karne se uske jariye kiye jaane wala black magic ka asar aap pr nahi hoga.


2.  Mangalwar ke din apne upar se 7 baar roti ko ghuma kar ke gaay ko khila de.


Dushman Ko Barbaad-Tabah Karne Ka Upay/Totka


Yadi aapka dushman aapko paresaan ya tang kar raha hai to aap ye aasan aur kargaar upay kar sakte hai. Aapko shaniwar ke din ek roti par apne dushman ka naam likhna hai aur phir us roti ko kale kutte ko khila deni hai. Aapka dushman dheere dheere barbad ho jaayga. 


Yadi aapka dushman koi adami hai to aapko roti kaale kutte ko khilani hai aur yadi aapki dushman koi aurat hai to aapko roti kaali kutiya ko khilani hai.


Ye upay karne par aapka naya dushman ho chahe purana dushman ho wo aapko tang nahi karega.

Aapke dushman ne aap par tona-totka kiya hua hai to aap ye upay jaroor karein.


Neeche diye gaye link ko click karein aur padein:-

Dushman/Shatru Se Badla Lene Ke Totke


Destroy Your Enemy


You need to write your enemy's name on chapati with the help of black sketch pen on Saturday and give it to black dog to eat it. This will destroy your enemy slowly slowly.

For male enemy you need to give chapati to black dog and for female enemy you need to give chapati to black bitch.

Wednesday, September 27, 2017

नाख़ून (Nails On Hand) | Hastrekha

नाख़ून

नाख़ून व्यक्ति की अनेक मनोवृत्तियाँ और रोगों के विषय में महत्वपूर्ण सूचना देते हैं। अत: हाथ को देखते समय नाखूनों का अध्ययन भी बहुत आवश्यक है। नाखूनों का अध्ययन उनको रंग, रूप लम्बाई, मोटाई, आकार और अन्य बनावट को विषय में सूक्ष्म रूप से कर लेना चाहिए। इस लक्षण से हमें कई विशेष जानकारियां मिलती हैं। प्रत्येक नाखून अपना विशेष महत्त्व रखता है। ग्रह या उंगली के लक्षण देखते समय नाखून का लक्षण भी उससे मिलाना आवश्यक हो जाता है।

palmistry based prediction on nails


नाखूनों के रंग

 श्वेत नाखून व्यक्ति में स्नायु-दोष का लक्षण है। इनका रक्त-चाप कम होता है। इन्हें सिर दर्द रहता है। यदि सिर के पिछले भाग में लगातार दर्द रहता हो तो ऐसे व्यक्तियों को लकचा होने का डर रहता है। स्नायु-विकार होने के समय नाखूनों का रंग बिल्कुल सफेद हो जाता है। कई बार इस प्रकार का रंग व्यक्ति में किसी दूसरी आत्मा का प्रभाव होने पर भी देखा जाता है, इनकी नींद कम आती है और मबराते अधिक हैं।

 हृदय रोग होने पर नाखूनों का रंग सफेद होता है। बीमारी की अवस्था में खून की कमी होने पर नाखून पतले हो जाते हैं और दबाने पर दब जाते हैं। हृदय रोग से ग्रस्त व्यक्ति के नाखून ऊबड़-खाबड़ तथा प्रेत-बाधा या अल्प-निद्रा रोग में ये कंवल सफेद होते हैं। आकार में विकार नहीं आता। चलने-फिरने से हृदय में पीड़ा का अनुभव करने वालों के नाखून हल्के सफेद होते हैं। इस रोग को एन्जायना कहते हैं। हृदय में छेद होने पर नाखून बीच में से ऊंचा हो जाता है। (नितिन कुमार पामिस्ट)

नाखून का रंग लाल होने पर व्यक्ति क्रोधी होता है। इनके शरीर में पित्त का प्रभाव अधिक होता है। इनकी कोई आदत नहीं डालनी चाहिए अन्यथा ये उसके आदी हो जाते हैं और छोड़ने में कठिनाई होती है। इन्हें खट्टी वस्तुएं नहीं खानी चाहिए। अघिक गरम पेय पदार्थ भी इनक स्वास्थ्य को हानि पहुंचाते हैं। लाल नाखून वाले व्यक्ति क्रोधी होते हैं। साथ में अन्य क्रोध के लक्षण होने पर ये विशेष क्रोधी पाये जाते हैं। 

अधिक धूम्रपान करने वालों के नाखून धुएं जैसे हो जाते हैं। यह रक्त में निकोटीन बढ़ जाने का लक्षण होता हैं। ऐसे लक्षण का प्रभाव हृदय पर पड़ता है। इनकी धूम्रपान कम कर देना चाहिए या बन्द कर देना चाहिए अन्यथा शरीर में कई रोग घर कर लेते है ।  (नितिन कुमार पामिस्ट)

 लम्बे नाखून

 ऐसे व्यक्ति सीधे-सादे तथा भावुक होते हैं, इन्हें किसी भी विषय में तीव्र रूचि नहीं होती है। शरीर के अनुपात से लम्बे होने पर ऐसे व्यक्तियों की कमर मे दर्द रहता है। इन्हें मियादी बुखार बार-बार होता है। भाग्य रेखा गहरी होने पर यदि नाखून विशेष लम्बे हों तो कैंसर, ट्यूमर, गॉल ब्लेडर (पित्ताशय) में पथरी आदि की सम्भावना रहती है। 

छोटे नाखून

छोटे नाखून व्यक्ति में बुद्धिमत्ता व सतर्कता का लक्षण है। ऐसे व्यक्ति जल्दबाज होते हैं परन्तु, बुद्धिमान होने के कारण सफल ही रहते हैं। बचपन में इनका गला खराब रहता है। इनकी प्रबन्ध शक्ति अच्छी होती है।

चौड़े नाखून

चौड़े नाखून वाले व्यक्ति खुले दिल के, बुद्धिमान व सावधान होते हैं। खुले दिल के होने के साथ-साथ इनमें किसी बात को बहुत बारीकी से जानने का गुण होता है। ये जुबान के सच्चे होते हैं। मगर लम्बे समय तक एक काग नहीं कर सकते। उपाय अपाय की सोच कर कार्य करने वालों के नाखून चौड़े होते हैं। इनके स्वभाव • | में थोड़ी गर्म पायी जाती है, परंतु अबायोस ही किसी व्यक्ति से बिगाडते नहीं। इनकी छाती में दर्द की शिकायत रहती है। कभी-कभी रीद की हड्डी में भी दर्द रहता है, जिसका कारण झटका लगना होता है। अधिक चौडे और फैले हुए नाखून होने पर व्यक्ति की मस्तिष्क की नस फटने का डर रहता है। चौड़े नाखून यदि सख्त भी हों तो ऐसे व्यक्ति क्रोधी होते हैं।  (नितिन कुमार पामिस्ट)

पतले नाख़ून 

 नाखूनों की मोटाई कम होने पर नाखून पतले कहे जाते हैं। ऐसे व्यक्ति का स्वास्थ्य कमजोर रहता है। मस्तिष्क में काम का दबाव होने से इनके सिर में दर्द रहने की शिकायत रहती है। इनका स्वभाव भूलने का होता है। ये आलसी होते हैं और नीद अधिक आती है। शरीर में दर्द और भूख की शिकायत भी इन्हें होती है। खट्टे च चटपटे पदार्थों में यह विशेष रूचि रखते हैं।

 मोटे नाखून 

नाखूनों का मोटा या मजबूत होना अच्छे स्वास्थ्य के चिन्ह हैं। सुदृढ़ नाखून वाले व्यक्ति शरीर व स्वास्थ्य के सुदृढ़ होते हैं। इन्हें लम्बे समय तक रहने वाली बीमारियां नहीं होती।


नाखूनों में चन्द्र



नाखूनों के पीछे की ओर सफंद भाग देखा जाता है, यह अर्ध-चन्द्राकार होता है। ऐसे व्यक्तियों का भार अवश्य बढ़ता है। भाग्य रेखा पतली होने के समय से इनका भार बढ़ना आरम्भ हो जाता है और जिस समय तक यह चन्द्र दिखाई देते रहते हैं, भार बढ़ता ही रहता है। जीवन रेखा सीधी होने पर व्यक्ति अधिक मोटा हो जाता है। अधिक बड़ा चन्द्र व्यक्ति में हृदय की कमजोरी का लक्षण है, इनको घबराहट बहुत होती है। अर्ध चन्द्र व अपूर्ण रेखा भी शरीर का भार बढने का लक्षण है।  (नितिन कुमार पामिस्ट)



चन्द रहित नाखून



नाखून छोटे अर्थात कम लम्बे होने पर उनमें सफेद चन्द्र का अभाव होता है। ये भी दुर्बल-स्नायु के होते हैं व हृदय कमजोर होता है। परन्तु यदि नाखून मोटे व दबाने पर सख्त हों तो उपरोक्त रोगों का भय नहीं रहता।



नाखूनों में दाग

नाखूनों में सफेद दाग भी स्नायु दुर्बलता का लक्षण है। ऐसे व्यक्ति प्रेमी और साधारण झूठ बोलने वाले होते हैं। बचपन में अधिक वीर्यपात के कारण भी नाखूनों में इस प्रकार के दाग हो जाते हैं। सूर्य की उंगली पर सफेद दाग होने पर व्यक्ति को सम्मान लाभ होता है। धृहस्पति पर लेखन सम्बन्धी त्र शनि पर धन सम्बन्पी लाभ होता है।

नाखूनों में काले दाग व्यक्ति की मृत्यु की सूचना देते हैं। इनको मस्तिष्क में शीघ्र ठेस पहुंचती है। स्त्री मरने, सन्तान भाग जाने या उसकी मृत्यु होने, पर धन नाश होने या सम्मान पर प्रहार होने पर नाखूनों में काले दाग पैदा हो जाते हैं।  (नितिन कुमार पामिस्ट)

नाखूनों में काले दाग शारीरिक कष्ट का चिन्ह हैं। यदि ऐसे दागू नाखून के आरम्भ अर्थात् चन्द्र के स्थान पर हों तो मृत्यु जैसे कष्ट का सूचक है।

नालीदार (रेखायुक्त) नाखून

प्राय: नाखूनों में नालियां बन जाती हैं। ये नालियां नाखूनों के बीव गहराई हो जाने का परिणाम होती हैं। लम्बे समय तक पेट में गैस या कब्ज रहने के पश्चात् इस प्रकार की नालियां बनती हैं। मस्तिष्क रेखा शनि के नीचे दोषपूर्ण होने पर अंगूठे के नाखून में इस प्रकार की नालियां या रेखाएं मधुमेह का निश्चित लक्षण है।

नारवून में कभी-कभी काली धारियां भी देखी जाती हैं। ऐसे व्यक्तियों को पेट में गैस बनती है तथा आगे चल कर इन्हें गुर्दे के रोग हो जाते हैं। अंगूठे में इस प्रकार का काली धारी होने पर व्यक्ति को सिर में दर्द की शिकायत रहकर उसके मस्तिष्क
की कोई छोटी नाड़ी फट जाती है, उसी के फलस्वरूप इस प्रकार काली धारी अंगूठे के नाखून में बनती है। यह धारी कुछ मोटी व स्पष्ट होती है। ऐसे व्यक्तियों को गुर्दे के रोग होने का डर रहता है। धारियां छूने पर चिकनी तथा नालियां खुरदरी अनुभव होती हैं।


लम्बे संकरे नाखून



जब नाखून बहुत संकरे हों तो रीद की कमजोरी की ओर संकेत करते हैं। यदि वे बहुत बड़े व पतले हों तो यह समझना चाहिए कि रीढ़ की हड्डी टेढ़ी हो गयी है और शरीर निर्बल हो गया है।



भद्दे नाखून



कुछ व्यक्तियों के नाखून कटे-फटे से अथवा भद्दे-से होते हैं। थे ऊथट-खाबड़ से दिखाई देते हैं। इन्हें पेशाव में फास्फेट जाता है। चित्र-14 इन्हें रोगों की सम्भावना रहती है। खून की कमी इसमें प्रधान कारण है। कई बार नाखूनों के अन्त में अर्थात् बाहर की ओर धुंधली काली-सफेद-सी धारी दिखाई देती है। ऐसे व्यक्तियों को हृदय रोग हो जाता है।  (नितिन कुमार पामिस्ट)



चपटे

यदि नाखून बहुत चपटे दिखाई दें और ऊपरी अन्त पर मांस से उखड़े नजूर आयें तो पक्षाघात का खतरा होता है। यह खतरा और भी अधिक हो जाता है यदि वे सीप की आकार के होकर मूल स्थान की दिशा में नुकीले हों। जब इन नाखूनों में चन्द्र के कोई चिन्ह न हों तो यह समझना चाहिए कि रोग बढ़ गया है।

चतुष्कोणाकार नाखून

नाखूनों की लम्बाई व चौड़ाई बराबर होने पर ऐसे व्यक्ति उन्नति करने वाले होते हैं, परन्तु प्रारम्भिक जीवन में इन्हें संघर्ष का सामना करना पड़ता है। इनका लाभ और हानि बराबर होता है, परन्तु सन्तान के कार्य करने के पश्चात् विशेष सफलता मिलती है। इनकी मनोवृति मिली-जुली होती है। ऐसे व्यक्ति अच्छी बातों को ग्रहण करने वाले होते हैं, परन्तु क्रोध आने पर गुणों की टोपी उतार कर अलग रख देते हैं। बड़ी उम्र में इनका क्रोध बहुत कम हो जाता है। इस प्रकार स्नेह में भी ये व्यक्ति अविचारी पाए जाते हैं। आचार व व्यवहार में समान होते हैं। महसूस भी करते हैं और हसते भी हैं। इनका गला थोड़ा बहुत खराब होता है। वृद्धावस्था में नजला या कफ का प्रभाव देखा जाता है। ये साधारणतया शरीर से ठीक रहते हैं।

त्रिकोणाकार नाखून

कभी-कभी नाखून की बनावट त्रिकोणाकार देखी जाती है। ऐसे नाखून आगे से चौड़े तथा पीछे की ओर बहुत नुकीले हो जाते हैं। इस प्रकार नाखून की आकृति त्रिकोणाकार जैसी बन जाती है। ऐसे व्यक्ति बुद्धिमान, हँसमुख व जल्दबाज होते हैं। त्रिकोणाकार नाखून होना व्यक्ति की मानसिक दक्षता का लक्षण है। इनको गले व नाक के रोग देखे जाते हैं।

बृहस्पति या प्रथम उंगली का नाख़ून

हाथ में प्रथम उगली या बृहस्पति का नाखून व्यक्ति की मानसिक प्रवृत्तियों का मुख्य लक्षण है। बृहस्पति की दोनों उंगलियों के नाखून छोटे-बड़े अवश्य ही होने चाहिए. नहीं तो व्यक्ति की ग्रहण शक्ति कम होती है। जितना ही अधिक अन्तर बृहस्पति की दोनों उंगलियों के नाखूनों में होता है, उतना ही व्यक्ति भाग्यशाली, समझदार व चालाक होता है और उन्नति भी अधिक करता है।  (नितिन कुमार पामिस्ट)

वृहस्पति के दोनों नाखून सम होने पर व्यक्ति सीधा होता है। इनमें ग्रहण शक्ति कम होती है। किसी भी बात को देर से समझते हैं और वृहस्पति का नाखून छोटा होने पर व्यक्ति में प्रबन्ध शक्ति अधिक होती है। मस्तिष्क रेखा एक से अधिक होने पर या मस्तिष्क रेखा दोनों ओर से शाखाकार होने पर ये उद्योगपति या बड़े प्रबन्धक होते हैं। बृहस्पति का नाखून गोल होने पर व्यक्ति के गले में दोष पाया जाता है। अन्य दोष होने पर इनकी सांस की नली का दमा हो जाता है।

शनि या दूसरी उंगली का नाखून

शनि का नाखून चौकोर, सुन्दर व छोटा होने पर व्यक्ति में मानव सुलभ गुणों की विशेषता पाई जाती है। ये पेड़-पौधों व पशु-पक्षियों सहित जीव मात्र से प्रेम करते हैं खेती, बागवानी व फुलवारी का इन्हें विशेष शौक होता है। ये व्यक्ति अध्यात्म व दर्शन में रूचि रखते हैं।

सूर्य या तीसरी उंगली का नाखून

सूर्य या तीसरी उंगली का नाखून चौकोर होने पर ऐसे व्यक्ति दस्तकार होते हैं। चौड़ा होने पर इनकी रूचि साहित्य की ओर जाती है।

बुध या चौथी उंगली का नाखून

इंसान की मानसिक रूचि व चरित्र की जानकारी के विषय में बुध की उंगली का नाखून विशेष महत्व रखता है। बुध का नाखून छोट, चौकोर व सुन्दर होने की या साहित्य में रूचि रखता है। ऐसे बच्चे क्या, क्यों, कैसे, इस प्रकार के प्रश्न करने वाले होते हैं। बुध का नाखून छोटा होने पर राजनीति में विशेष रूचि होती है तथा हाथ में अन्य लक्षण होने पर चुनाव लड़ता है। ये सफल राजनीतिज्ञ होते हैं।  (नितिन कुमार पामिस्ट)

अंगूठे का नाखून

दोनों हाथों में एक जैसा हो तो व्यक्ति वंश परम्परा के अनुसार जीवन यापन करते हैं। बायें हाथ में अंगूठे का नाखून यड़ा व दायें का छोटा हो तो नये ढंग से जीवन निर्माण करते हैं। दायें हाथ में बड़ा व बायें में छोटा होने पर संघर्षशील होते हैं व अपना कमाया हुआ धन विश्वास व स्नेह के कारण दूसरों की सहायता में खर्च करने वाले होते हैं। ये 35 वर्ष के बाद धन-सम्पत्ति व सम्मान प्राप्त करते हैं तथा एकाग्रता से कार्य करने वाले होते हैं। ये स्वयं तथा समाज क लिए विशेष उदार होते हैं। जबकि दायें हाथ में नाखून छोटा होने पर व्यक्ति चालाक व निजी स्वार्थ आगे रखते हैं। दायां हाथ कता होने के कारण अधिकतर व्यक्तियों के इसी हाथ के नाखून बड़े होते हैं।

दो या अधिक नाखूनों का समन्वय

बुध व शनि का नाखून छोटा व चौकोर होने पर व्यक्ति में धार्मिक गुणों का अधिक समावेश होता है। इस सम्बन्ध में व्यक्ति विशेष ख्याति प्राप्त करता है तथा लेखक होने पर सत्-साहित्य का निर्माण करता है। बुध व वृहस्पति की उंगलियों कं नाखन छोटे व चौकोर हों तो व्यक्ति में व्यवहार व चरित्र सम्बन्धी गुण अधिक पाये जाते हैं। बुध व सूर्य का नाखून छोटा व चौकोर होने पर व्यक्ति रसायन व आयुर्वेद के ज्ञात होते हैं।  (नितिन कुमार पामिस्ट)

नाखून का महत्व शोध या मनोविज्ञान की दृष्टि से केवल सुन्दर व उत्तम हाथ में होता है। निकृष्ट हाथों में निकृष्ट कोटि के गुण पाये जाने के कारण नाखूनों का विशेष महत्व नहीं होता। उस समय अंगूठे के नाखूनों से केवल व्यक्ति की मनोवैज्ञानिक प्रवृत्तियों व रोग के विषय में जाना जाता है।

मस्तक रेखा का निकास ( जीवन रेखा से अलग ) | Hast Rekha


मस्तक रेखा का जीवन रेखा से अलग हो कर निकालना 

palm reading starting of head line


इस प्रकार की मस्तिष्क रेखा बृहस्पति पर्वत के नीचे, जीवन रेखा से अलग होकर आरम्भ होती है। इस की दूरी अधिक से अधिक 1/4 इन्च या 1/6 इन्च होती है। इससे अधिक दूर निकली हुई मस्तिष्क रेखा का फल अच्छा नहीं होता। यह जितनी नजदीक से निकली होती है और जीवन रेखा से अलग होती है तो अच्छी मानी जाती है। यदि ऐसी मस्तिष्क रेखा, चतुष्कोण या किसी रेखा से बिना जुड़ी हो तो अति उत्तम होती है ।

जीवन रेखा से बृहस्पति पर जाने वाली शाखा के द्वारा अथवा जीवन रेखा से निकली भाग्य रेखा के द्वारा जुड़ी होने पर दोषपूर्ण नहीं मानी जाती। ऐसी मस्तिष्क रेखा जीवन रेखा के निकास के पास से ही निकलती हो तो यह अतुलनीय होती हैं, परन्तु ऐसा कम ही देखा जाता । (नितिन कुमार पामिस्ट)

ये व्यक्ति स्वतन्त्र विचारों के, बुद्धिमान, शीघ्र विश्वास करने वाले व आरम्भ में शीघ्र घबराने वाले होते हैं। मध्यायु के पश्चात् घबराने का दोष इनमें नहीं रहता। इस लक्षण के साथ उगलियों की लम्बाई भी अधिक हो तो विश्वास की मात्रा बढ़ जाती है, जोकि भाग्योदय में रुकावट बन कर सामने आती हैं। वदि भाग्य रेखा, मस्तिष्क रेखा पर रुकी हो तो ऐसे व्यक्ति कई बार घोखा खाते हैं। ये शर्मातु. अधिक एहसान मानने व लिहाज करने वाले होते** और स्पष्ट रूप से किसी बात को नहीं कहते। किसी को उधार देकर मांगते नहीं, जिन पर विश्वास करते हैं, उसे परिवार का सदस्य मान लेते हैं। अत: ये जब भी दूसरे व्यक्ति पर निर्भर करते हैं, हानि उठाते हैं। ऐसे व्यक्तियों को 35 वर्ष की आयु तक साझे में व्यापार नहीं करना चाहिए और यदि परिस्थितिवश करना भी पड़े तो दूसरे साझियों के साथ सक्रिय रूप से भाग लेना चाहिए अन्यथा लाभ के बदले हानि ही हाथ लगेगी।

 ऐसे हाथों में यदि रेखाएं कम हों या हाथ कौणिक अर्थात उंगलियां अंगूठे की ओर झुकी हुई हों तो जल्दबाज होते हैं। फलस्वरूप सावधानी से कार्य न करने की कारण हानि उठाते हैं परन्तु स्थायित्व प्राप्त करने के पश्चात ये पूर्ण आत्म विश्वासी सिद्ध होते हैं। ऐसी स्त्रियां स्पष्ट वक्ता, हिम्मतवाली, व निडर होती हैं। यदि भाग्य रेखा हृदय रेखा पर रुकी हो व उंगलियां लम्बी हो तो दूसरे के प्रभाव में शीघ्र आती हैं। यदि कोई व्यक्ति थोड़ी भी सहानुभूति से बात करे तो उस पर पूर्ण विश्वास कर लेती हैं। (नितिन कुमार पामिस्ट)

 ऐसे व्यक्ति चरित्र में विश्वास करते हैं, अपने मन में दूसरे का प्रभाव होने पर भी इन्हें चरित्र-दोष नहीं होता। इनक अच्छे मित्र होते हैं व यथासम्भव मित्रता निभाते हैं, किसी से बदला लेने की भावना नहीं होती। यदि विशेष रूप से स्त्रियों के हाथ में जीवन रेखा में दोष हो तो थोड़ी-सी बात में बुरी तरह घबरा जाती हैं, जैसे पति का रात देर से घर आना या कोई समाचार अचानक सुनना आदि। मस्तिष्क रेखा, जीवन रेखा से अलग होकर निकले तो व्यक्ति बचपन में अधिक बीमार होते हैं व जलने से या ऊपर से गिर कर बच जाना इत्यादि घटनाएं होती हैं। यदि जीवन रेखा में विशेष दोष हो तो बचपन में निमोनिया, पाचन शक्ति च जिगर खराब रहता है तथा उपरोक्त रोगों के कारण कई बार बहुत अधिक बीमार हो जाते हैं। 

मस्तिष्क रेखा गोलाकार हो तो निमोनिया कई बार होता है। ऐसे बच्चे शरारती एवं प्रखर बुद्धि वाले होते हैं। मस्तिष्क रेखा द्विभाजित होने पर होशियार एव उत्तम विद्यार्थी सिद्ध होते हैं। यह मस्तिष्क रेखा मंगल पर या उसकी ओर जाए तो इनकी छाती पर तिल होता है। 

यह इनकी किसी योग्य सन्तानक होने का लक्षण है। ऐसे व्यक्ति नौकरी अवश्य करते हैं। कर्ज नहीं ले सकते, क्योंकि इससे इनके मस्तिष्क में तनाव रहता हैं। साझे में काम भी इन्हें अच्छा नहीं लगता। 

ऐसा देखा जाता है कि कुछ रोग जैसे दमा, हृदय रोग आदि एक पीढ़ी से दूसरी पीड़ी में चलते जाते हैं। यदि मस्तिष्क रेखा जीवन रेखा से अलग हो तो स्वयं को ऐसे रोग होने पर भी सन्तान की ये रोग नहीं लगते। ऐसे व्यक्ति की मस्तिष्क रेखा द्विभाजित हो तो जैसे-जैसे चिन्ता करते हैं, भारी होते जाते हैं और सफलता मिलती जाती है। काम करने में चतुर होते हैं। उंगलियां जितनी पतली होती हैं, यह सफलता व बुद्धिमत्ता का लक्षण होता है। जीवन रेखा गोलाकार होने पर ऐसे व्यक्ति यथा शक्ति अपने प्रभाव से व धन से दूसरों की सहायता करते देखे जाते हैं। इस लक्षण के साथ मस्तिष्क रेखा मोटी-पतली होने पर अधिक सोने वाले होते हैं। खाना खाने के बाद आलस्य आता है, हाथ कोमल हो तो आलसी होने के कारण अधिक सोने की आदत होती है। 

मस्तिष्क रेखा जीवन रेखा से अधिक दूर होकर निकली हो अर्थात इसकी दूरी जीवन रेखा से 34 इन्व या उससे अधिक हो तो यह व्यक्ति में अति आत्मविश्वास, जिसे हम पमण्ड कहते हैं, पैदा करती है। ऐसे व्यक्ति लापरवाह होते हैं, अपने जीवन निर्माण की भी चिन्ता नहीं करते। ये स्वछन्द विचारों की होते हैं व किसी की परवाह न करना, बात काटने पर निरादर कर देना, इनके लिए कोई विशेष बात नहीं होती। शनि की उंगली लम्बी या शनि उन्नत हो तो व्यक्ति एकान्त पसन्द होता है, भाग्य रेखा भी शनि पर हो तो झगड़ा तथा विरोध पसन्द नहीं होता। ऐसे व्यक्ति विरोधियों से दूर जाकर खुले में मकान बनाकर रहते हैं। परवाह कम करने से ऐसे पति-पत्नी में मनोमालिन्य बना रहता है, वे न तो एक-दूसरे का पक्ष ले सकते हैं और न तारीफ ही कर सकते हैं, फलस्वरूप अनायास ही विरोध रहता है। इनकी स्पष्टवादिता या कटुवाकशक्ति नौकरी में भी झगड़े का कारण बनती है। इनका गला सूखता है व नोंद कम आती है। स्वी के हाथ में यह लक्षण होने पर इन्हें शादी के बाद परेशानी होती है। ऐसे व्यक्तियों में आत्मविश्वास देर से पैदा होता है। यदि शुक्र भी उन्नत हो तो जीवन में सफलता भी देर से मिलती है।

मस्तक रेखा का जीवन रेखा से निकालना | Hast Rekha


मस्तक रेखा का निकास जीवन रेखा से जुड़ा हुआ होना 


इस लक्षण में, मस्तिष्क व जीवन रेखा आपस में अधिक दूर तक जुड़ी अर्थात् सम्मिलित या उलझी हुई नहीं होनी चाहिए। अधिक दूरी की परिभाषा हम लगभग डेढ़ इंच में करते हैं। डेढ़ इंच जुड़ी होने पर मस्तिष्क रेखा जीवन से अलग होती हो तो इसका फल दोषपूर्ण होता है, जबकि जीवन रेखा से मस्तिष्क रेखा का विना अधिक जोड़ के निकास गुणकारी है। इस प्रकार की मस्तिष्क रेखा केवल छूकर जीवन रेखा से निकलती है ।

headlines starts from life line palmistry


 ऐसे व्यक्ति समझदार, प्रत्येक कार्य को सोच-समझकर करने वाले, जिम्मेदार तथा क्रियात्मक होते हैं और शीघ्र निर्णय लेते हैं। उपरोक्त लक्षण अधिक रेखा वाले हाथों में हो तो विचार करने व उसे क्रियान्वित  करने में कुछ समय अवश्य लतते है परन्तु क्रियतमक हाथ में सदैव ही शीघ्र निर्णय कर लिए जाते हैं। अधिक रेखा वाले व्यक्ति भी एक से अधिक भाग्य रेखा, अगूंठा ब उँगलियां पतली व छोटी, दोनों और द्विजिव्हाकार मस्तिष्क रेखा होने पर शीघ्र न ठीक निर्णय लेने वाले होते हैं। ये स्वतन्त्र निर्णय लेने वाले व उत्तरदायित्व निभाने वाले होते हैं। फलस्वरूप ऐसे व्यक्ति जीवन - में प्रगति करते हैं।  ( नितिन कुमार पामिस्ट )

स्त्रियों के हाथ में यह लक्षण होने पर तथा हाथ भी कोमल हो तो प्रत्येक दूसरे वर्ष में सन्तान हो जाती है। जीवन और मस्तिष्क रेखा दोष रहित हो तो पति-पत्नी का आपस में बहुत प्रेम रहता है, हृदय रेखा भी निर्दोष या दोहरी हो तो साथी के जरा भी रुखा बोलने पर इन्हें बहुत दु:ख होता है। अन्त तक इनकं सम्बन्ध मधुर बने रहते हैं और जीवन सुखी रहता है। एक दूसरे का विछोह इन्हें किसी भी मूल्य धर सहन नहीं होता। 

इस प्रकार से छूकर निकलने वाली मस्तिष्क रेखा सीधी मंगल की ओर जाती हो, राधा जीवन रेखा गोलाकार व भाग्य रेखा पतनी हो या हाथ भारी हो तो व्यक्ति अतुल सम्पति पैदा करता है और अपने वंश में नए साधनों के द्वारा ऐश्वर्य और प्रतिभा उत्पन्न करता है। ( नितिन कुमार पामिस्ट )

ऐसी मस्तिष्क रेखा जो चन्द्रमा की ओर जाए एवं जीवन रेखा गोलाकार हो, हाथ चौडा, भारी हो, छोटा व सुन्दर हो तो ऐसे व्यक्ति अत्यन्त व्यवहार कुशल होते हैं। इनके धन व सम्मान में वृद्धि होती रहती है। अभिवृद्धि को प्राप्त होते हैं। ऐसे व्यक्ति महामानव होते हैं, हृदय रेखा सुन्दर होकर शनि के नीचे पूर्ण होती हो अथवा बृहस्पति को छ्ती हो तो देवतुल्य सम्मान प्राप्त करते हैं व बहुचर्चित होते हैं। केवल छूकर निकली हुई मस्तिष्क रेरज्ञा बुध या सूर्य की ओर जाती हो और जीवन रेखा भी गोलाकार हो तो ऐसे व्यक्ति लेखन अथवा सम्पक स्थापित करने में चमत्कारिक सफलता प्राप्त करते हैं।

जज (न्यायाधीश) का हाथ - हस्तरेखा

sign of judge advocate

जज (न्यायाधीश) का हाथ- जिसके हाथ की अंगुलियाँलंबी व कोणदार हो और हृदय व मस्तिष्क केि रेखा के मध्यम भाग में चतुष्कोण होवे। बुध की अंगुली की प्रथम पौरलम्बी हो और गुरू की अंगुलीसीधी हो, सूर्यका पर्वतउतम उठाहुआ होदह मनुष्यकुशल, सार्थक, दयावान, न्यायाधीश तथा न्याय नीति का अच्छा ज्ञाता होता हैं।

डमरू (Damaru/Petllet Drum/Two Headed Drum) In Palmistry


palmistry damru


डमरू

यह मस्तिष्क व हृदय रेखा के बीच में एक बड़ा गुणा का निशान होता है, जो बड़े अफसरों, ज्योतिषियों, अध्यात्मिक गुण सम्पन्न व्यक्तियों या किसी संस्था के पदाधिकारियों के हाथों में पाया जाता है। ऐसे व्यक्ति धनी व प्रतिष्ठित होते हैं। दोषपूर्ण होने पर यह भीख मांगने का लक्षण है। यदि यह चिन्ह दोनों आोर रेखाओं से न मिला अर्थात् स्वतन्त्र हो तो ऐसे व्यक्ति मन्त्रशक्ति था ज्योतिष विद्या में ख्याति प्राप्त करते हैं और इस विद्या के माध्यम से विपुल धन भी अर्जित करते हैं। इसका विशेष फल उसी दशा में होता है, जबकि इसकी स्थिति ठीक शनि के नीचे हो, नहीं तो कवल घुटनों में चोट आदि का भय रहता है।

सूर्य मुद्रिका ( Surya Mudrika ) | Hast Rekha

सूर्य मुद्रिका

यह मुद्रिका धार्मिक प्रवृत्ति, साहित्यिक एवं व्यक्तिगत प्रतिभा का लक्षण है। सूर्य रेखा भी हाथ में होने पर यह अधिक उत्तम फल प्रदान करती है। दो सूर्य रेखाएं होने पर ऐसे व्यक्ति अत्यन्त प्रतिभाशाली और सतोगुणी देवता की उपासता करने वाले, प्रेमी व धार्मिक विचारों के होते हैं।


surya mudrika jyotish
बुध या सूर्य के नीचे हृदय रेखा में द्वीप या अन्य दोष होने पर सूर्य मुद्रिका भी दोषपूर्ण हो तो व्यक्ति चाहे अन्धे ही क्यों न हों, अति प्रतिभाशाली होते हैं। सूर्य मुद्रिका टूटी व उंगलियों के पास होने पर इसके फलों में कमी देखी जाती है। अन्यथा यह हाथ में उत्तम लक्षण है।

Madhuri Dixit Palm Image Palmistry

Tag- palm reading online in hindi, palm reading to tell if your pregnant, palmistry blog, palmistry children, palmistry divorce line, palmistry fish, palmistry guide in hindi, palmistry hand full of lines, palmistry hindi, palmistry in india, palmistry lines for children, palmistry lines of wealth, palmistry marriage line fork, palmistry mounts, palmistry pregnancy lines, palmistry property line on hand


Madhuri Dixit (born 15 May 1967), also known by her married name Madhuri Dixit Nene, is an Indian actress who is known for her work in Hindi cinema. Dixit has been praised by critics for her acting and dancing skills. She has received six Filmfare Awards, four for Best Actress, one for Best Supporting Actress and one special award. She has been nominated for the Filmfare Award for Best Actress a record fourteen times. She was awarded the Padma Shri, India's fourth-highest civilian award, by the Government of Indiain 2008.


and is a maze of lines, deeper meanings interpretation ?(pros will love the complexity)palmistry,i want to know whether i will have love marriage or arrange? palmistry,
madhuri dixit choli ke peeche kya hai khalnayak

maduri dixit nude, madhuri dixit kiss

Monday, September 25, 2017

Rahu Lines Palmistry


Rahu Lines On Middle Of Palms Palm Reading

Rahu lines are diagonal lines starting from mount of lower mars inside of life line which indicates problems in life (family problems, business loss, and marriage problems).

Rahu lines are also known as Tension Lines, Worry Lines, and Obstacle Lines on Hand.

Most people have a series of lines that radiate from the base of their thumb towards the life line, sometimes even crossing it. These are known as worry lines, and some people have a few while others have hundreds. Most worry lines are not important, but worry lines that cross your life line could have the potential to affect your health and family. Most of us worry about things that never happen, so if you see lots of worry lines it might be time to relax more and enjoy life.

You May Also Like

Gemstone Therapy (Ratna Vichar)



GEMSTONE


You can wear gemstones in neck as pendant/Locket or in fingers as ring.

Auspicious Day, Metal and Finger in which you should wear your Gemstone

Ruby (Manik):  Wear on Sunday, Gold or Copper, Ring Finger
Pearl (Moti): Wear on Monday, Silver, Little Finger
Yellow Sapphire (Pukhraj): Wear on Thursday, Gold, Index Finger
Diamond (Heera): Wear on Friday, Silver or White Gold, Middle Finger
Red Coral (Moonga): Wear on Tuesday, Gold or Silver, Ring Finger
Emerald (Panna): Wear on Wednesday, Gold or Silver, Little Finger
Blue Sapphire (Neelam): Wear on Saturday, Gold, Middle Finger
Hessonite (Gomed): Wear on Saturday, Gold or Silver, Middle Finger
Cat’s Eye (Lahsuniya): Wear on Tuesday, Gold or Silver, Middle/Little Finger

Before wearing any gemstone you need to purify and energize it.  If you powered your gemstone properly then it can increase the benefits and power of a gemstone greatly.

Mostly this procedure is only done by the experts.  The experts call this procedure ShudhiKaran and Praan Pratishtha of the gemstone. 

In case if you do not have any expert/pandit with you then you can follow simple method of it.  You need to wash your gemstone on its auspicious day with GangaJal (Holy Water) or with raw Milk in a small bowl and after this step you need to recite “Gaytri Mantra” x11 times and blow on it, now your gemstone is ready to wear.  If you are Muslim then recite "Bismillahir Rahmanir Raheem" x11 and wear it.

If the above method is not possible for you then you can do this method:  Just go to a nearby temple and tell the Pujari (priest) to put your gemstone in legs of Lords for few seconds and now your gemstone is ready to wear.

Some gemstone causes some mental and medical side effects which usually can last for 10 to 15 days after wearing it for the first time.  It takes some time to adjust so you need to keep wearing it.


Ruby (माणक)
Color of Gem : Reddish
Nature of Gem : Hot
Metal to be used : Gold/copper
Minimum weight : 5.00 carat/3.00 Carat
Planet it represents : Sun
Sub-stones : Garnet, Star Ruby, Sun stone, Red Agate

Diseases : Blesses a person with good health problem, relieves headaches, indigestion

Yellow Sapphire (पीला पुख्रराज)
Color of Gem : Yellowish
Nature of Gem : Cold
Metal to be used : Gold
Minimum weight : 2.90 Carat
Planet it represents : Jupiter
Sub-stones : Golden Topaz, Smoky Topaz,
Lemon Topaz, Citrine

Diseases : A destroyer of diseases and negativity. Should be worn for a healthy body and mind. A cure for jaundice, diarrhea, cough, phlegm, respiratory and chest-related problems. Particularly
recommended for those desirous of being blessed with children.

Pearl (मोती)
Color of Gem : Off-white
Nature of Gem : Cold
Metal to be used : Silver
Minimum weight : 3.50 Carat
Planet it represents : Moon
Sub-stones : Moonstone, Opal

Diseases : Cure for tuberculosis, cough, bile, phlegm, dehydration, diabetes. Improves memory, cures insomnia, uterine disorders, breathing and digestive problems. Improves general health, enhances complexion, beauty and charisma.

Red Coral (मून्गा)

Color of Gem : Reddish
Nature of Gem : Hot
Metal to be used : Silver
Minimum weight : 3.00 Carat
Planet it represents : Mars
Sub-stones : Orange Agate

Diseases : Helps in cure of anemia, allergies, inflammations, bronchitis, tuberculosis, pneumonia,
measles etc. Cures malnutrition and inadequate or slow development in children. Prevents abortion,
miscarriage or other pre-natal complications. Cures mysterious diseases and blood infections & impurities. Stops nightmares.

Emerald (पन्ना)

Color of Gem : Greenish
Nature of Gem : Hot
Metal to be used : Gold
Finger for wearing ring : Pinkie finger
Day & Time of wearing : Wednesday, Morning
Minimum weight : 5.00 Carat/3.00 Carat
Planet it represents : Mercury
Sub-stones : Peridot, Jade, Onyx, Green Agate

Diseases : Improves eye-sight &a memory, cures stammering, reduces psychic fears, fickle-mindedness & harshness in speech. Improves control over brain &nervous system, digestion, liver, lungs, tongue & vocal chord. Is used as a cure for hyperacidity, hepatitis, ulcer, asthma, bronchitis, insomnia,skin problem etc.

Caution : Emerald is not recommended for those suffering from allergies, skin disorders, or epilepsy.

Diamond (हीरा)
Color of Gem : Transparent
Nature of Gem : Hot
Metal to be used : White Gold
Minimum weight : 0.25 Cents
Planet it represents : Venus
Sub-stones : White Sapphire, Zircon

Diamond is the King of all precious stones, and considered the most beautiful, durable and precious of all.

Diseases : Most effective cure for sexual weaknesses, sex-related problems and diseases of private parts. Strongly recommended for sexual vigor, vitality, power & energy. Cure for diabetes, STD, skin diseases, insomnia. Increases longevity. 

Caution : Bad Diamonds produce negative energy and cause ailments, tensions & depression. Should be of very good quality, with pro-active positive spiritual energy. Only an Expert Spiritualist or Astrologer can distinguish between Diamonds with positive or negative rays.

Blue Sapphire (नीलम)
Color of Gem : Bluish
Nature of Gem : Very Cold
Metal to be used : Gold
Minimum weight : 3.00 Carat
Planet it represents : Saturn
Sub-stones : Lolit, Lapis Lazuri, Turquoise, Amethyst,
Gun metal, Black star

Diseases
: Protects the person against risks of accidents, mishaps, disaster, and any unforeseen calamities. Heals ailments like vomiting, nausea, headaches, body pains, boils, allergies, abscess and hypertension. Grants relief from mental agonies, miseries and frustration, and is known to cure alcoholism and bad eating habits. Can cure heart disease in some cases. Caution : Blue Sapphire should be worn only under guidance and after consultation of an expert Gem Therapist. Extra care and caution is required to carefully watch and monitor it's affects.

Hessonite (गोमेद)
Color of Gem : Rust Brown, Deep Brown
Nature of Gem : Cold
Metal to be used : Silver, Penta Alloy
Finger for wearing ring : Middle finger
Day & Time of wearing : Wednesday, Morning
Ideal weight : 5 Rattis
Planet it represents : Rahu (Dragon's Head)
Sub-stones : Amber

Diseases : Cures diseases of Rahu and Saturn. Increases appetite and vitality. Improves general health and well-being.

Cat's Eye (लेह्सुनिया)
Color of Gem : Two color
Nature of Gem : Very Hot
Metal to be used : Gold
Minimum weight : 4.00 Carat
Planet it represents : Ketu (Dragon's Tail)
Sub-stones : Chrysoberyl, Eagle eye, Tiger eye

Diseases : Cure for allergies and skin disorders.  Relieves tensions and fears, and cures psychological
dysfunctions like mania, schizophrenia, depression etc. Helps cure paralysis too.

Gemstone Available

You can contact me if you want to consult about wearing gemstone or want to purchase any gemstone.  I provide all types of gemstones. All gemstones are "Abhimantrit" by me.




Ruby (Manik)




You need to wear Ruby gemstone in your right hand's ring finger on Sunday in Gold Ring.


                     


Pearl (Moti)



You need to wear Pearl gemstone in your right hand's little finger on Monday in Silver Ring.





Coral (Moonga)



You need to wear Coral gemstone in your right hand's ring finger on Tuesday in Silver Ring.





Emerald (Panna)




You need to wear Emerald gemstone in your right hand's little finger on Wednesday in silver Ring.




Yellow Sapphire (Pukhraj)



You need to wear Yellow Sapphire gemstone in your right hand's index finger on Thursday in Gold Ring.





Topaz (Sunhela)



You need to wear Sunela gemstone in your right hand's index finger on Thursday in Gold Ring.





White Zircon



You need to wear White Zircon gemstone in your right hand's middle finger on Friday in Silver Ring.



Blue Sapphire (Neelam)




You need to wear Blue Sapphire gemstone in your right hand's middle finger on Saturday in gold Ring.



Kathella or Neeli (Alternative/Substitute of Blue Sapphire)





You need to wear Katela gemstone in your right hand's middle finger on Saturday in silver Ring.



Hessonite (Gomed)



You need to wear Gomaid gemstone in your right hand's middle finger on Saturday in silver Ring.



Cat's Eye (Lahasunya)



You need to wear Lahsuniya gemstone in your right hand's middle finger on Saturday in silver Ring.


All Gemstone Rosary Available

























You May Also Like To Read
Astro-Remedies For All Problems Of Life

ONLINE PALMISTRY READING




SEND ME YOUR PALM IMAGES FOR DETAILED AND PERSONALIZED
PALM READING




Question: I want to get palm reading done by you so let me know how to contact you?


Answer: Contact me at Email ID: nitinkumar_palmist@yahoo.in.

Question: I want to know what includes in Palm reading report?

Answer: You will get detailed palm reading report covering all aspects of life. Past, current and future predictions. Your palm lines and signs, nature, health, career, period, financial, marriage, children, travel, education, suitable gemstone, remedies and answer of your specific questions. It is up to 4-5 pages.



Question: When I will receive my palm reading report?

Answer: You will get your full detailed palm reading report in 9-10 days to your email ID after receiving the fees for palm reading report.



Question: How you will send me my palm reading report?

Answer: You will receive your palm reading report by e-mail in your e-mail inbox.



Question: Can you also suggest remedies?

Answer: Yes, remedies and solution of problems are also included in this reading.


Question: Can you also suggest gemstone?

Answer: Yes, gemstone recommendation is also included in this reading.


Question: How to capture palm images?

Answer: Capture your palm images by your mobile camera
(Take image from iphone or from any android phone) or you can also use scanner.


Question: Give me sample of palm images so I get an idea how to capture palm images?

Answer: You need to capture full images of both palms (Right and left hand), close-up of both palms, and side views of both palms. See images below.






Question: What other information I need to send with palm images?

Answer: You need to mention the below things with your palm images:-

  • Your Gender: Male/Female

  • Your Age:

  • Your Location:

  • Your Questions:

Question: How much the detailed palm reading costs?

Answer: Cost of palm reading:


  • India: Rs. 600/-

  • Outside Of India: 20 USD
( For instant palm reading in 24 hours you need to pay extra Rs. 500 or 15 USD )
(India: 600 + 500 = Rs. 1100/-)
(Outside Of India: 20 + 15 = 35 USD)

Question: How you will confirm that I have made payment?


Answer: You need to provide me some proof of the payment made like:

  • UTR/Reference number of transaction.

  • Screenshot of payment.

  • Receipt/slip photo of payment.

Question: I am living outside of India so what are the options for me to pay you?

Answer: Payment options for International Clients:

International clients (those who are living outside of India) need to pay me 20 USD via PayPal or Western Union Money Transfer.

  • PayPal (PayPal ID : nitinkumar_palmist@yahoo.in)
    ( Please select "goods or services" instead of "personal" )

  • PayPal direct link for $20 (You will get reading in 9/10 days) - PayPal Payment 20 dollars
    PayPal direct link for $35 (You will get reading in 24 hours) - PayPal Payment 35 dollars
  • Western Union: Contact me for details.

Question: I am living in India so what are the options for me to pay you?

Answer: Payment options for Indian Clients:

  • Indian client needs to pay me 600/- Rupees in my SBI Bank via netbanking or direct cash deposit.

  • SBI Bank: (State Bank of India)

Nitin Kumar Singhal
A/c No.: 61246625123
IFSC CODE: SBIN0031199
Branch: Industrial Estate

City: Jodhpur, Rajasthan.
  • ICICI BANK:
(Contact For Details)

Email ID: nitinkumar_palmist@yahoo.in






Client's Feedback - July 2018



If you don’t have your real date of birth then palmistry is there to help you for future life predictions.  Our palm lines, signs, mounts and shapes which are very useful in predicting the person’s life. We can predict your future from the lines and signs of your both palms. We can predict your future by studying your palm lines and signs. There is no need to send us your date of birth , time of birth , place of birth etc . Palm told the personality ,future ups and downs thus a experienced palmist can guide you to deal with upcoming challenges with vedic remedies.