Saturday, June 2, 2018

Life-line terminating at a sign of cross (Sudden death)


Life-line terminating at a sign of cross
(Sudden death)
If life-line terminates where sign of a cross surfaces, the native will die during the period when such a sign appears, though cause of death can be ascertained through other factors discernible on a native's palm. But it is certain his death will be sudden, and not due to any prolonged illness. The deeper and distinct the sign of cross, the more certain and unambiguous the indication of death.

Life-Line Having Triple-Branched Leaves (Medium Life-Span)


Life-Line Having Triple-Branched Leaves
(Medium Life-Span)
If middle line (out of the three lines) is strong and deep, it can also be called a new life - it looks as if new buds are cropping up. Such a line infuses a renewed life-force in native's life. If this line bifurcates into multiple lines, it results in total diminution of life-force, due to which the native meets his end of life.

Multi-pronged life-line (Sudden death)


Multi-pronged life-line
(Sudden death)
Such signs are noticed between the age of 60-65 and the natives die a natural death. If such a type of line is small at the onset stage or the life-line becomes multi branched at the starting point, the native dies prematurely at a younger age. Ancient palmists termed this line as indicative of (Penury during the old age), but the fact is totally otherwise, as I have observed such type line on the hands of many wealthy persons who remain rich even in the old age. Experience teaches/guides us that such natives meet their end at the time when such a line emerges during that particular period.

A Twin-Branched, Small And Less Wide Life Line (Comparatively Better Middle Age)


A Twin-Branched, Small And Less Wide Life Line
(Comparatively Better Middle Age)
When both the lines are distinct and deep life span can march forward but, if such lines are thin and minute then said situation cannot surface- it is such a condition where life force of life-line is getting segregated. Bifurcation of life-force into two parts also divides life-span which is an established truth. Hence bifurcation of flow of life-force into two channels indicates wastage & lessening of life force. but, even then, this situation is better than the wide twin branches. If the life-line, even if divided, looks almost inter joined then it is better than a line which looks wider. 











Sign Of A Cross Or Dot On Line Of Mercury (Death After Protracted Illness)


Sign Of A Cross Or Dot On Line Of Mercury
(Death After Protracted Illness)

If life-line is small and Mercury-line is wavy , the native certainly suffers from some protracted illness. If sign of a dot or cross exists on Mercury line, (See figure 144) the native will die due to some intestinal (ineffective) disease and he will not have any sudden attack but cause of death, at young age, will be some internal ailment. If any line emerges sudden from life-line and proceed towards the said ominous signs, native's instant death is certain.

A Dot Or Cross On Natural Life-Line/Brain-Line (Heart Attack At Young Age)



A Dot Or Cross On Natural Life-Line/Brain-Line
(Heart Attack At Young Age)


Sign of a cross, dot, star or fragmentation on a fragmented heart line denotes death due to stoppage of heart beats: even when the life line is small, but to its being succinct and deep, the native meets a sudden end to his life, but not due to any prolonged ailment and cause of death can be easily located in the form of presence of sign of some cross, star, dot or breakage. Such breakages are ominous, even if they exist elsewhere, and point out to sudden death at the young age. 

A sudden line, emerging from life-line, and heading towards elevated mars (success and gains in matters relating to land)



A sudden line, emerging from life-line, and heading
towards elevated mars
(success and gains in matters relating to land)

If a line emerges from life-line and pro­ceeds towards elevated Mars, the native acquires traits of this planet, in respect of his ambition. Such a type of line is generally found on the palms of those persons whose profession pertains to sales and purchase, contractors, builders etc. 

A Vertical Line, Emerging From Life, Heading Towards Mount Of Mercury (Gains In Business And Profession)

A Vertical Line, Emerging From Life, Heading Towards Mount Of Mercury (Gains In Business And Profession)

If the said situation exists the native will get inclined towards traits of Mercury. Phalanxes of little finger will the nature of native's profession/ business and he will adhere to the kind of business which is signified in a more thick phalanx of mercury-ring. But do not commit the blunder of taking this line as the health-line. Such a type of line can be noticed on the palms of C.As, Computer operators, drug dealers/sellers etc.

An Upgoing Line, Emerging From Life-Line, Heading Towards Mount Of Jupiter (Continuous Success)


An upgoing line, emerging from life-line, heading
towards mount of Jupiter
(continuous success)

Of all the vertical lines if any line touches the zone of Jupiter, ie native is a person of high ambition and he will continue his efforts and struggle till he attains success. Examine the phalanxes of little finger and its zone so as to determine the precise discipline in will attain success.

Life-line Having Mixed Lines Of Different Shapes And Types (A Transition Period Of Change)

Life-line having mixed lines of different shapes and
types (A transition period of change)

It is apparently clear from figure that upward and downward lines are noticed on the life-line. See the spot (marked with an arrow sign) where there is a terminal point of uprising lines, and this is the period in a native's life when progress comes to a grinding halt. This point is an indication of transition period, when a native can achieve optimum success by dint of his capability but thereafter his efforts will not fructify, because he will fail to achieve success, and I have noted such developments in the hands of many men and women.


 

Sign of island on life-life and mesh on the Mount of Moon

Sign of island on life-life and mesh on the Mount of Moon 

If in addition to presence of sign or a barley-grain, there also exists a mesh-sign on the lower side of mount of Moon, then the native will remain worried due to health. 

Sign of island on life-life and mesh on the Mount of Moon

If ever you sight such a sign and the native has not felt any untoward situation, so far, he should contact and continue the treatment without any break as he can regain health even before onset of some disease. If any sudden line also appears between the barley-corn sign and mesh sign (see figure 105), it is a sure sign of some ominous change, hence he should be extra careful. Figure - 105

चंद्र पर्वत हस्त रेखा ज्ञान


चंद्र पर्वत शुक्र पर्वत के पास स्थित होता है, सौन्दर्यप्रियता, आदर्शवादी, साहित्य, काव्य, और मानसिक तनाव का कारक ग्रह है, या हम ये भी कह सकते हैं कि यह पर्वत मन का कारक है कल्पना इसकी प्रिय साथी है, कोमलता, भावुकता, प्रकृति के प्रति लगाव आदि स्वाभाविक गुण होते है, यह अपनी ही दुनिया में मस्त रहतें हैं। 
यदि चंद्र पर्वत हाँथ में अच्छा उभार लिए है और अपने स्थान पर है तो ऐसा व्यक्ति प्रकृति- प्रेमी होगा, ऐसा व्यक्ति जीवन में कभी किसी को धोखा नहीं दे सकता, संसार के छल- धोखेबाजी, जलन, नफरत , आदि से कोसों दूर रहता है, ऐसे व्यक्ति प्रसिद्ध साहित्यकार, कलाकार, संगीत के जानकार होते है, ऐसा व्यक्ति मिलनसार और स्वतंत्र रूप से विचार करने में समर्थ होता है, एवं धार्मिक प्रवत्ति का होता है।

जिन पुरुषों में चंद्र पर्वत का कम उभरा या दबा सा रहता है तो ऐसा व्यक्ति ह्रदय का कठोर होता है, इनमे बदला लेने की भावना अधिक होती है, अगर चंद्र पर्वत अपनी सामान्य अवस्था अधिक उभरा हुआ है तो ये मानसिक योजनाये तो बनातें है किन्तु कार्य रूप में बदल नहीं पातें हैं , प्रेम और सौंदर्य इनके जीवन की कमजोरी होती है, अगर इनकी जरा भी उपेक्षा इनका प्रिय व्यक्ति कर दे तो ये जीवन के प्रति इतना निराश हो जातें हैं कि आत्महत्या तक कर सकते है।

यदि चंद्र पर्वत का झुकाव हथेली के बाहर की ओर है तो ऐसे व्यक्ति भोगी एवं कामी होते है, यदि चंद्र पर्वत पर गोल वृत्त हो तथा कुछ रेखाएं मस्तिष्क रेखा से निकलकर इस पर्वत तक पहुंचती हो तो वह व्यक्ति राजनीतिक एवं व्यापारिक दृष्टी से विदेशयात्रा अवश्य करता है, चंद्र पर्वत पर शंख का चिन्ह प्रायः अशुभ माना जाता है, अगर ये चिन्ह चन्द्र पर्वत पर है तो ऐसा व्यक्ति सफलता प्राप्त करने के लिए बहुत संघर्ष करता है,एवं कठोर परिश्रम के बाद ही सफलताए प्राप्त करता है। 

चंद्र पर्वत पर त्रिभुज का चिन्ह है तो वह अपने जीवन में अनेक बार विदेश यात्रा करता है, यदि क्रास का निशान है तो जल में डूबने से मृत्यु या मस्तिष्क रोग होता है, यदि चंद्र पर्वत पर काला तिल है तो पागलपन के दौरे होते है, वृत्त का चिन्ह होने पर पानी में डूबने से मृत्यु का योग होता है, यदि चंद्र पर्वत पर द्वीप का चिन्ह है तो क्रूर और निर्दयी स्वभाव का होगा, यदि वर्ग का चिन्ह है तो प्रत्येक दिशा में विकास होता है, यदि जाल का चिन्ह है तो वह व्यक्ति मानसिक तनावों का सामना करता है, यदि नक्षत्र या तारे का चिन्ह हो तो उदर विकार या मानसिक रोग होता है। 

हाँथ में चन्द्र कि स्थिति को ठीक करने के लिए निम्न उपाय करने चाहिए -

जंहा तक हो सके तो पूर्णिमा के दिन नंगे बदन कुछ समय के लिए चन्द्र की रौशनी को अपने शरीर में पड़ने देना चाहिए। 

ॐ चं चन्द्राय नमः का जाप रोज 11 , 21 , या 51 करना चाहिए। 

चन्द्र की वजह से मानसिक परेशानियाँ अथवा तनाव को कम करने लिए कनिष्ठिका ऊँगली में 7 से 8 रत्ती का मोती सोमवार को चांदी में धारण करना चाहिए। 

तांम्बे के पात्र में जल भरकर रात को चाँद की रौशनी में रख कर सुबह इस जल को पीने से चन्द्र के प्रतिकूल प्रभावों को कण किया जा सकता है।

हृदय रोग निवारण टोटका और ताबीज़ (Taweez for Heart Disease And Attack ure)

हृदय रोग (Heart Attack) निवारण टोटका और ताबीज़ 

हृद्य रोगों में रोगी के रक्त में थक्के (खून का जमाव) अथवा रक्त परिभ्रमण का अधिक भार पड़ने के कारण हृदय अपना कार्य करना बन्द कर देता है अथवा अन्य किसी कारण से हृदय सुगमतापूर्वक अपना कार्य करने में असमर्थ हो जाता है, जिससे आए दिन मौतें हो जाया करती हैं।



हृदय रोग निवारण के लिए एक उपयोगी टोटका यहां दिया जा रहा है। हृदय रोगी को चाहिए कि वह किसी शुभ दिन व रविपुष्य नक्षत्र योग में कस्तूरी, जायफल, जावित्री तथा गोरोचन सबको पीसकर स्याही बनाएं तथा साफ-सुथरे भोजपत्र पर जो कहीं से भी कटा-फटा न हो, उसे चौकोर वर्गाकार रूप में काटकर ॐ लिखे, फिर गायत्री मंत्र से पूरा भरकर तावीज बना लें। इसे चांदी के खोल में मढ़कर गायत्री मंत्र पढ़ते समय बाईं भुजा में धारण कर लें। इसके प्रभाव से हृदय रोग धीरे-धीरे शांत हो जाएगा।

हस्तरेखा और भाग्य रेखा (Hastrekha Aur Bhagya Rekha)

हस्तरेखा और भाग्य रेखा
(Bhagya Rekha In Hindi)  

वर्तमान समय के जन मानस में भाग्य शब्द अपरिचित नहीं है।  आज अगर कोई कार्य समय पर नहीं हो पाता या उसमें किसी भी प्रकार की अड़चन आती है तो भाग्य को ही दोष दिया जाता है ।  

ये पोस्ट जरूर पड़ें :- 


गीता के अठारहवें अध्याय में कहा गया है कि भगवान श्री कृष्ण का सारा परिश्रम भाग्य के नीचे दब गया और उसमें लिखा है कि "दैवंचैवात्र पंचमम्"। वास्तव में देखा जाय तो भाग्य एक बाजार है जहां थोड़ी देर ठहरने के बाद भाव गिर जाते हैं।  

 बालक अपने पूर्व जन्म के संस्कारों के आधार पर जिस परिवार में जन्म लेता है उसका परिवेश परिजन बड़ी तन्मयता से पालन करता है। इस जीवन में जो कुछ मनुष्य कर्म करता है। वह धीरे धीरे संचय होता जाता है और उसकी एक तलपट तैयार होती जाती है, हम उसे कलान्तर में भाग्य का रुप दे देते हैं। आज का जो हमारा पुरुषार्थ है वही कल का भाग्य है, वास्तव में कर्मफल भोग के परिपाक को ही भाग्य कहते हैं।

मातृ दोषेण दुःशीलो, पितृ दोषेण मूर्खता। कार्पण्य वंश दोषेण, स्वदोषेण दरिद्रता।। (श्रीमद्भागवत महापुराण)  

मनुष्य यदि चरित्रहीन हो तो उसकी माता में दोष सम-हजयना चाहिए, यदि वह मूर्ख है तो उसके पिता का दोष सम-हजयना चाहिए, यदि वह गरीब है तो किसी का दोष नहीं स्वयं का दोष सम-हजयना चहिए। इन्ही दस अंगुलियों द्वारा किये गये काम से दैनिक सप्ताहिक मासिक या वार्षिक रुप से भाग्य का संचय होता है। शनि रेखा या भाग्य रेखा मनुष्य का जीवन चक्र बतलाती है। उसका कारबार, व्यक्तित्व, आर्थिक उन्नति, परिवर्तन, व्याप्त प्रवृतियां इन सब का चित्रण भाग्य रेखा या शनि रेखा करती है।    



भाग्य रेखा का उद्गम स्थान मणिबन्ध है, वहां से निकलने वाली रेखा मध्यमा अंगुली की ओर जाती है। इस रेखा के मार्ग में आने वाले अनेक चिह्न एवं रेखाओं का भिन्न-ंउचयभिन्न अर्थ निकलते हैं। 1.अ. भाग्य रेखा आयु रेखा में से निकलकर शनि पर्वत को जाये तो व्यक्ति का शुरुआती जीवन कुछ कठिनाई युक्त व्यतीत होता है। मेहनत से कार्य करके ये लोग प्रायः 21 वर्ष की आयु के पश्चात उन्नति करते हैं।






1.स. मणिबन्ध से प्रारम होनेवाली भाग्य रेखा शुभ मानी जाती है। आरम्भ में यदि मत्स्य रेखा हो तो अत्यन्त शुभ माना जाता है। यही रेखा चैकोर हाथ में होने से व्यक्ति काफी अधिक धन कमाता है तथा काम से जी नहीं चुराता है। यही रेखा दार्शनिक हाथ में होने से कम काम करने से अधिक पैसा प्राप्त होता है।  





2.अ. मस्तिष्क रेखा से भाग्य रेखा शुरु होने पर काफी परेशानी को -हजयेलने के बाद व्यक्ति का कार्य प्रगति पथ की ओर अग्रसर होता पाया गया है।   

2.ब. यदि भाग्य रेखा शनि पर्वत तक जाती है तो व्यक्ति की बृद्धावस्था सुखमय व्यतीत होती है।  

2.स. भाग्य रेखा के समाप्ति स्थान पर क्रास का चिह्न घातक संकेत है।   

3.अ. चन्द्र क्षेत्र से निकलने वाली भाग्य रेखा से दूसरों की सहायता या प्रोत्साहन से सफलता प्राप्त होती है राजनीतिज्ञ एवं सामाजिक कार्यकर्ताओं के हाथों में ऐसी रेखा अधिकांश पायी जाती है।

3.ब. सीधी जाती हुई भाग्य रेखा में चन्द्र क्षेत्र से आकर अन्य रेखा मिलने पर व्यक्ति इच्छानुसार सफल होगा परन्तु किसी की सहायता से।

3.स. यही रेखा स्त्रियों के हाथ में होने से उसका विवाह या तो धनवान से होगा या फिर किसी द्वारा धन की सहायता प्राप्त होगी।   



4.अ. यदि भाग्य रेखा वृहस्पति क्षेत्र में पहुंच जाये तो व्यक्ति को अधिकार और विशिष्टता प्राप्त होती है ऐसे लोग उच्च पदों को प्राप्त करते हैं। इसके अलावा अगर अन्य शुभ लक्षण हों तथा रेखा के अन्त में त्रिशूल का आकार होवे तो यह राज योग होता है।   

4.ब. यदि भाग्य रेखा की कोई शाखा वृहस्पति क्षेत्र में पहंुच जाये तो अति उत्तम योग होता है तथा ऐसे व्यक्ति अत्यंत महत्वाकांक्षी होते हैं।   

4.स. शनि क्षेत्र में पहुंचने वाली भाग्य रेखा अच्छा फल देती है।  

5.अ. जंजीरनुमा भाग्य रेखा व्यक्ति को दुःख में डाल देती हैं   

5.ब. दो भाग्य रेखा हो तथा उसमें कोई दोष न हो तो व्यक्ति उन्नति करता है, सम्मान प्राप्त करता है, यह रेखा समानांन्तर होगी तो भी शुभ फल प्रदान करेगी।   

5.स. यदि भाग्य रेखा हाथ को पार करके मध्यमा में पहुंच जाये तो लक्षण शुभ नहीं होता, वह व्यक्ति हमेशा सीमा और नियम कायदे का उल्लंघन करता है।   

6.अ. यदि भाग्य रेखा शीर्ष रेखा पर ही रूकती हो तथा पुनः वहां से वृहस्पति क्षेत्र में पहुंचती हो तो व्यक्ति को प्रेम भावना के कारण बाधा उत्पन्न होती है। परन्तु गुरु के प्रभाव से पुनः प्रेम सम्बन्ध से सहायता द्वारा अभिलाषा पूर्ण होती है।   

6.ब. शीर्ष रेखा द्वारा भाग्य रेखा रुक जाय तो व्यक्ति को स्वयं की गलती से असफलता मिलती है।   

6.स. मंगल पर्वत से भाग्य रेखा शुरु होने पर भ्रम, शंका आदि का डर रहता है। यही रेखा शनि क्षेत्र पर जाने से बाधाओं में सफलता तथा धैर्य, श्रम, और लगन से उन्नति होती है।     

7.अ. शुक्र पर्वत की ओर से आकर कई बारीक रेखायें जब भाग्य रेखा को काटती हैं, तो पारिवारिक कष्ट और उल-हजयनों का सामना करना पड़ता है।  

7.ब. भाग्य रेखा मध्य में खण्डित होने से या टूट जाने से कुछ समय के लिए जीवन निष्क्रिय हो जाता है।   

7.स. भाग्य रेखा से हृदय रेखा की ओर जाने वाली छोटी रेखायें हो तो व्यक्ति के जीवन में प्रेम का ऐसा भी क्षण आता है कि जिनका अन्त विवाह बाद भी नहीं होता।   

8.अ. त्रिकोण से (दोनों हाथों में) शुरु होने वाली भाग्य रेखा व्यक्ति को बौद्धिक योजनाओं में सफलता प्रदान करती है।   

8.ब. भाग्य रेखा के शुरुआत में टे-सजय़ी-ंउचयमे-सजय़ी रेखा एवं श्रृंखला व्यक्ति के बचपन में कष्ट का संकेत देती है।   

8.स. भाग्य रेखा मध्य में हल्की पड़ जाने से उसके मध्य जीवनकाल में सुखमय समय का प्रतीक है।   

9.अ. दोनों हाथों में बुध पर्वत पर जानेवाली भाग्य रेखा व्यापार में सफलता देती है।   

9.ब. शुक्र पर्वत से एक गहरी रेखा भाग्य रेखा की ओर जाये तो व्यक्ति हिंसात्मक काम भावना वाला होता है।   

9.स. यदि इसी रेखा के साथ अन्य रेखा भी जाती हो तो भारी बाधाओं पर आनन्दपूर्ण विजय होती है।    

10.अ. भाग्य रेखा पर नीचे की ओर जाने वाली शाखायें व्यक्ति को आर्थिक कष्ट देती है।   

10.ब. भाग्य रेखा तीन जगह से बीच में टूटने से वात रोग द्वारा कष्ट होता है।   

10.स. अगर भाग्य रेखा को कोई अन्य शाखा काटती हुई बुध की जाली को पार कर जाये तो व्यक्ति की बेईमानी उसे ले डूबती है तथा उसे पश्चाताप करना होता है।   

11.अ. चन्द्र क्षेत्र से सूर्य या बुध क्षेत्र को सीधी जाने वाली भाग्य रेखा व्यक्ति को व्यापार से महान सफलता दिलाती है। ऐसे लोगों को साहित्य और कला में भी सफलता मिलती है।   

11.ब. मष्तिष्क रेखा से शुरु होने वाली भाग्य रेखा का व्यक्ति शराब या नशीले पदार्थों की दुकान आदि चलाता है।   

11.स. जिन हाथों में भाग्य रेखा नहीं पायी जाती वे जीवन में सफल तो होते हैं पर उनमें विशेष निखार या तेज नहीं पाया जाता है। ऐसे लोगों को सामान्य सुखी कहा जा सकता है।


सौजन्य  - सरल हस्तरेखा पुस्तक 

Hastrekha Vigyan Aur Fate Line

ONLINE PALMISTRY READING




SEND ME YOUR PALM IMAGES FOR DETAILED AND PERSONALIZED
PALM READING




Question: I want to get palm reading done by you so let me know how to contact you?


Answer: Contact me at Email ID: nitinkumar_palmist@yahoo.in.

Question: I want to know what includes in Palm reading report?

Answer: You will get detailed palm reading report covering all aspects of life. Past, current and future predictions. Your palm lines and signs, nature, health, career, period, financial, marriage, children, travel, education, suitable gemstone, remedies and answer of your specific questions. It is up to 4-5 pages.



Question: When I will receive my palm reading report?

Answer: You will get your full detailed palm reading report in 9-10 days to your email ID after receiving the fees for palm reading report.



Question: How you will send me my palm reading report?

Answer: You will receive your palm reading report by e-mail in your e-mail inbox.



Question: Can you also suggest remedies?

Answer: Yes, remedies and solution of problems are also included in this reading.


Question: Can you also suggest gemstone?

Answer: Yes, gemstone recommendation is also included in this reading.


Question: How to capture palm images?

Answer: Capture your palm images by your mobile camera
(Take image from iphone or from any android phone) or you can also use scanner.


Question: Give me sample of palm images so I get an idea how to capture palm images?

Answer: You need to capture full images of both palms (Right and left hand), close-up of both palms, and side views of both palms. See images below.






Question: What other information I need to send with palm images?

Answer: You need to mention the below things with your palm images:-

  • Your Gender: Male/Female

  • Your Age:

  • Your Location:

  • Your Questions:

Question: How much the detailed palm reading costs?

Answer: Cost of palm reading:


  • India: Rs. 600/-

  • Outside Of India: 20 USD
( For instant palm reading in 24 hours you need to pay extra Rs. 500 or 15 USD )
(India: 600 + 500 = Rs. 1100/-)
(Outside Of India: 20 + 15 = 35 USD)

Question: How you will confirm that I have made payment?


Answer: You need to provide me some proof of the payment made like:

  • UTR/Reference number of transaction.

  • Screenshot of payment.

  • Receipt/slip photo of payment.

Question: I am living outside of India so what are the options for me to pay you?

Answer: Payment options for International Clients:

International clients (those who are living outside of India) need to pay me 20 USD via PayPal or Western Union Money Transfer.

  • PayPal (PayPal ID : nitinkumar_palmist@yahoo.in)
    ( Please select "goods or services" instead of "personal" )

  • Western Union: Contact me for details.

Question: I am living in India so what are the options for me to pay you?

Answer: Payment options for Indian Clients:

  • Indian client needs to pay me 600/- Rupees in my SBI Bank via netbanking or direct cash deposit.

  • SBI Bank: (State Bank of India)

Nitin Kumar Singhal
A/c No.: 61246625123
IFSC CODE: SBIN0031199
Branch: Industrial Estate

City: Jodhpur, Rajasthan.
  • ICICI BANK:
(Contact For Details)

Email ID: nitinkumar_palmist@yahoo.in






Client's Feedback - August 2018



If you don’t have your real date of birth then palmistry is there to help you for future life predictions.  Our palm lines, signs, mounts and shapes which are very useful in predicting the person’s life. We can predict your future from the lines and signs of your both palms. We can predict your future by studying your palm lines and signs. There is no need to send us your date of birth , time of birth , place of birth etc . Palm told the personality ,future ups and downs thus a experienced palmist can guide you to deal with upcoming challenges with vedic remedies.