Friday, March 31, 2017

पक्षियों का सतनाजा

पक्षियों को अनाज डालने वाले पाठक अवश्य पढे

क्या आप पिछले अनेक वर्षों से पक्षियों को सतनाजा या अनाज डाल रहे हैं और फिर भी परेशान हैं तो आप हमारी बात पर चिन्तन करें। यह तथ्य हमारे पिछले 30 वर्षों के अनुभव द्वारा प्रमाणित है। पक्षियों को सतनाजा अथवा कोई विशिष्ट खादय सामग्री आप किसी पार्क या इसके लिए निर्धारित किसी विशिष्ट स्थान पर ही डालें ।



यदि आप अनाज अपनी छत पर डालते हैं तो आप अपना व अपने बच्चों का अहित कर रहे हैं। हमारे बहुत से ग्राहक हर रोज अपनी छत पर सतनाजा डालते हैं। अनाज खाने के बाद पक्षी वहां पर अपनी बीट करते हैं जिससे गन्दगी छत पर फैलती है। बहुधा इसमें से दुर्गन्ध भी आती है। गन्दगी का प्रभाव हमारे सिर अथवा मस्तिष्क पर पड़ेगा जिससे हमारे विचार दूषित होंगे। ऐसे घरों में रहने वाले विद्यार्थियों का शिक्षा से ध्यान भटक जाता है तथा गलत विचारों के कारण उनकी संगति खराब हो जाती है। इससे घर में क्लेश व झगड़ा होता है। इस रहे हैं वहीं अपने घर में अशांति फेला रहे हैं। अतः पक्षियों के लिए अनाज आप उनके लिए निश्चित स्थान पर ही डालें । अपनी छत को आप साफ व स्वच्छ रखें ताकि आपकी बुद्धि स्पष्ट व निर्मल रहे। अगर कोई शंका हो तो सौभाग्य दीप कार्यालय में पत्र द्वारा पूछताछ करें।

नितिन कुमार पामिस्ट

Thursday, March 30, 2017

बंधन मुक्ति यन्त्र

गृह क्लेश के लिए बंधन मुक्ति यन्त्र

यदि आप निरन्तर प्रगति कर रहे हैं और चाहते हैं कि आपकी प्रगति निर्बाध रूप से होती रहे तो बन्धन मुक्ति यंत्र आपके लिए बहुत लाभदायक है। टोने टोटके व नजर दोष के दुश्प्रभाव को दूर करके आप के कार्यों को सुचारू रूप से चलाये रखने में यह सहायक है।

बन्धन मुक्ति यंत्र

यह यंत्र सामान्यतया जिन समस्याओं के लिए लाभदायक है, वे हैं- कर्ज मुक्ति, जमीन जायदाद के झगड़ों से छुटकारा, गृह क्लेश से मुक्ति, मानसिक अशान्ति, शत्रु नाश, नजर व टोने-टोटके से बचाव, कम्पीटीशन में सफलता, आयु वृद्धि, दुर्घटना से बचाव, लम्बी बीमारी से मुक्ति, मकान अथवा व्यावसायिक स्थल का दिशा दोष अथवा वेध दूर करना, शिक्षा में रुकावट, विवाह न होना, संतान प्राप्ति, घबराहट रहना, मेहनत का फल न मिलना, धन का अपव्यय होना तथा इसी तरह की अन्य समस्याएं। साढ़ेसाती व द्वैय्या से पीड़ित व्यक्तियों के लिए यह विशेष लाभदायक है। यह टोने-टोटके तथा विभिन्न तांत्रिक प्रभावों से व्यक्ति का बचाव करता है।

यदि पहले से उसके विरुद्ध कोई टोना-टोटका अथवा तांत्रिक क्रियाएं की गई हैं तो यह धीरे-धीरे उनके प्रभाव को समाप्त करके व्यक्ति की प्रगति में सहायक होता है। इसके प्रभाव से आर्थिक स्थिति, मान-सम्मान तथा राजनीतिक उपलब्धियों में भी काफी लाभ मिलता है। इसे स्थापित करने के लिए सर्वश्रेष्ठ समय मंगलवार को प्रात:काल अथवा शनिवार को सायंकाल है। शुभ मुहूर्त स्थापित करने के पश्चात इसके सामने प्रतिदिन प्रात:काल या सायंकाल तिल या सरसों के तेल का दीपक जलाते रहें। इस यंत्र के सामने बैठकर किया गया कोई भी मंत्रपाठ बहुत प्रभावी पाया गया है।

नितिन कुमार पामिस्ट

Miya Biwi Mein Pyaar Badane Ka Saral Totka



Pati Aur Patni Mein Ladaai Hone Pr Ye Upay Karein

Agar husband aur wife ke talookaat acche na ho aur roz jhagda hota ho to is upay ko karne se labh milta hai.


Pati Aur Patni Mein Ladaai Hone Pr Ye Upay Karein


Pati aur Patni ko chahiye ki wo dono pati aur patni apne hath aur pair ke beeso nakhun  (20 nail of leg and hand) ko kaat le aur kisi bhi sunsaan jagah pr gadda khod kar ke un nakhuno ko us gaddey mein gaad de.


Ye karya kisi bhi din kiya ja sakta hai.

Aurat ke breast par til hona accha hota hai ya bura hota hai.  Agar aurat ya aapki patni ke cleavage ya nipple ke pass til ho to uska kya matlab hota hai aur uska aapki shaadisudha (married life) par kya asar padta hai ye jaanne ke liye neeche diye hue link ko click karein-

Ladki Ke Boobs Aur Nipple Par Til Hone Ka Matalb Jaaane

 





Lipstick Aur Lifafe Ka Totka | Vashikaran Totke

लिपस्टिक गुलाब और इत्र से अचूक वशीकरण 

आपको ये शुक्रवार की रात को करना है ।


इसके लिए आपको गुलाब के फूल की पंखुड़ीया, एक लिफाफा किसी भी रंग का , कोई भी परफ्यूम (इत्र), एक सफ़ेद पेपर और एक लिपस्टिक कोई भी रंग की लेनी है ।

lipstick ka totka


विधि :  आपको अपने बॉयफ्रेंड/गर्लफ्रेंड/पति/पत्नी  का नाम लिपस्टिक से उस सफ़ेद पेपर पर लिखना है  और फिर परफ्यूम  (इत्र) छिड़क देना है और फिर आपको पेपर को  लिफाफे में डाल देना है और गुलाब की पंखुड़ीया भी डाल देनी है । अब आपको लिफाफे को किस (चूमना) है और ये प्रार्थना करनी है की आपकी गर्लफ्रेंड/बॉयफ्रेंड/पति/पत्नी आपको प्यार करने लग जाय और आपकी बात सुनने लगे ।  फिर आपको लिफाफे को घर में  कही भी छुपा देना है ताकि कोई उसको खोले नहीं ।


Aapko ye shukrawar ki raat ko karna hai.


Iske liye aapko gulaab ke fool ki pankhudiya ek lifafa kisi bhi rang ka koi bhi perfume (itra) ek safed paper aur ek lipstick koi bhi rang ki leni hai.


vidhi:  


Aapko apne boyfriend/girlfriend/pati/patni ka naam lipstick se us safed paper pr likhna hai aur phir perfume chidak dena hai aur phir aapko peper ko lifafe mein daal dena hai aur gulaab ki pankhudiya bhi daal deni hai ab aapko lifafe ko kis (chumna) hai aur ye prathana krni hai ki aapki premika/premi/husband/wife aapko pyaar karne lag jaay aur aapki baat maanne lag jaay.  phir aapko lifafe ko ghar mein kahi bhi chupa dena hai taaki koi usko khol nahi sakein.

Miya-Biwi mein pyaar badane ka behad saral aur achook totka bhi aajma kar dekein uske liye neeche diye hue link ko click karein-


जल्दी तलाक पाने का उपाय (Remedy To Get Divorce Soon)

तलाक जल्द हो जाय उसका उपाय

तलाक जल्द हो जाय उसका उपाय 

1.    शनिवार के दिन चार बत्ती वाला दीया सरसों के तेल का किसी सुनसान जगह पर जलाना  है और अपनी प्रार्थना कर लेनी है । ये उपाय प्रत्येक शनिवार के दिन आपको  करना है ।


2.    अमावस्या के दिन गोशाला में पानी का  दान करवाना है ।

3.    प्रत्येक शनिवार के दिन सरसों के तेल का दीया अपने घर के दरवाज़े के बहार जलाय ।  हर बार आपको नया दीया काम में लेना है और पुराना दीया पीपल के पेड़ में डाल  देना है ।



Pati Se Talaak Paane Ka Saral Upay:

1.  Shaniwar ke din chaar batti wala diya sarson ke tail ka kisi sunsan jagah pr jalana hai aur prathana kar leni hai.  Ye upay aapko har shaniwar karna hai.  

2.  Amavashya ke din goshala mein paani ka daan karwana hai.

3. Har shaniwar ke din sarson ke tail ka diya apne ghar ke darwaze ke bahar jalay.  Har baar aapko naya diya kaam mein lena hai aur purana diya peepal ke ped mein daal dena hai.

Yadi aap shukhi married life jeena chahate hai to aap ye "lipstick ka totka" aajma sakte hai uske liye aapko neeche diye hue link ko click karna hoga-

You May Also Like: Lipstick Gulaab Aur Lifafe Ka Totka

Sautan Ya Shatru Se Peecha Chudane Ka Totka


Doosari Orat Se Pecha Chudane Ke Upay Hindi

Yadi aapke pati ki jindagi mein koi doosari aurat (sautan) aa gayi hai ya aapka boyfriend kisi aur ladki se pyaar karne lag gaya hai ya phir aapki girlfriend ki life mein aur koi ladka aa gaya hai ya aapki patni (wife) ka gair-sambhandh (physical relationship) kisi aur purush ke sath ban gaya hai to aap ye asarkarak upay kar sakte hai.




Yadi aapko koi shatru (dushman) paresaan kar raha hai aur dhamki de raha hai to bhi aap ye upay kar sakte hai.


Upay Is Prakaar Hai

Aapko saabut udad ki kaali daal ke 38 daane aur chawal ke 40 daane milakar kisi gadde (hole) mein daba dene hai aur us ke upar neembu nichod dena hai aur nichodte samay shatru ya sautan ka naam lete rahe aur bole ki uska satyanash ho jaay aur wo barbaad ho jaay. 




Doosra Upay

Yadi shatru adhik tang kar raha ho to hanuman ji ke mastak ke sindor se mangalwar ya shaniwar raat mein uska naam likh kar apne ghar ke mandir mein raat bhar rakhe aur subah uthkar bina nahay dhoy chalte paani mein baha dene se shatru aapse shatruta chod kar mitra jaisa bartaav karne lag jaayga. 



महत्वपूर्ण जानकारी :-

वशीकरण हेतु किसी भी तांत्रिक को पैसे न दे क्योकि ये एक  ठगी का धंधा है और आजकल बहुत सारें लोग वशीकरण की वेबसाइट बना कर के लोगो को लूट रहे है इसलिए कृपया ऐसे लोगो से दूर रहे ।

ये तांत्रिक लोग आपको विश्वास दिलाते है की आपका काम हो जाएगा और पैसे ले लेते है लेकिन आपका काम होता नहीं है और आपके पैसे देने के बदले ये लोग आपसे और पैसो की मांग करते है ।

ये तांत्रिक लोग ज्यादातर लोगो से पूजा के नाम पर पैसे लेते है । ये लोग व्यक्ति से कहते है की इनको पूजा करनी होगी जिसके सामान के लिए इनको पैसे चाहिए और व्यक्ति इस झांसे में आ जाता है और पैसे दे देता है पूजा के लिए और वह यह सोचता है की सब ठीक हो जाएगा पूजा होते ही लेकिन जब कुछ ठीक नहीं होता है तब वह तांत्रिक से संपर्क करता है तो तांत्रिक और पैसो की मांग करता है और कहता है की रुकावट आ रही है जबकि हकीकत में तांत्रिक कोई पूजा करता ही नहीं है ।

आप तांत्रिक से यही बोले की आपको पैसा मेरा काम होने के बाद ही मिलेगा उस से पहले कुछ नहीं मिलेगा अगर ईमानदार होगा तो वह आपका काम करेगा और बईमान होगा तो लाख कोशिश करेगा की आप से वो पैसा निकलवा सकें ।


ये सब बाते बताने का उदेश्य यही है की आप किसी भी ठग के झांसे में न आय ।


यदि आपका जीवनसाथी आप से नाराज है या आपका बॉयफ्रेंड या गर्लफ्रेंड आप से नाराज है तो आप नीचे दिए लिंक को क्लिक करें और उस पोस्ट में दिए गए उपाय को करें - नाराज पत्नी या प्रेमिका को मनाने का उपाय 

व्यापार बाधा को दूर करने का अचूक उपाय


व्यापार बाधा को दूर करने का अचूक उपाय

यदि व्यपार में नजर लग गयी है और चलता हुआ व्यापार बंद हो गया है तो ये उपाय करें आपको लाभ मिलेगा -



व्यापार बाधा को दूर करने का अचूक उपाय

अमावस्या या शनिवार की सुबह एक नीम्बू ले व उसके चार टुकड़े कर दे , थोड़ी सी पीली सरसों, 21 काली मिर्च व 7 लोंग लेकर दूकान या फैक्ट्री में रख दे ( कही पर भी ) फिर संध्या के समय सभी चीज़ो को काले कपडे में बाँध कर के सूखे कुँए में फैंक आए । भूल से भी उस कुएं में न फैके जिस में पानी हो और लोग उस पानी को काम में लेते हो ।  याद रहे कुॅआ सुखा हो । आप इसको हर महीने करें । आपके व्यपार पर लगी नजर और किया-कराया और सभी तरह की बाधा दूर होगी और आपका व्यापार चलने लगेगा ।   (नितिन कुमार पामिस्ट )



Vyapaar Badha Door Karne Ka Achook Upay:-


Yadi vyapaar mein najar lag gayi hai aur chalta hua vyapaar band ho gaya hai to ye upay karein aapko labh milega- (Nitin Kumar Palmist)


Amavashya ya Shaniwar (saturday) ki subah ek neembu le aur uske chaar tukde kar de, thodi peeli sarson, 21 kaali mirch, 7 long lekar dukaan ya factory mein rakh de (kahi pr bhi) phir sandhya ke samay sabhi cheezo ko kaale kapade mein bandh kar ke kisi sookhey kue (well) mein faik de.  Bhool se bhi us kue mein ne faike jis mein paani ho aur log us kue ka paani kaam mein lete ho.  Yaad rahe ki kua sookha ho.  Aap isko har mahine karein.  Aapka vyapaar , dhandhe pr lagi najar aur kiya karaya aur sabhi tarah ko dosh door hoga aur aapki dukaan ya factory chalane lagegi.  

You May Also Like:
Jaldi Shadi Hone Ke Upaye

Sunday, March 26, 2017

समुद्रशास्त्र में सरकारी नौकरी



सरकार से धन का लाभ मिले भला यह कौन नहीं चाहेगा। लेकिन यह चाहत हर किसी की पूरी नहीं होती है। इसके लिए जरूरी है कि आपकी किस्मत में सरकार से लाभ का योग बना हो। कुण्डली में किस्मत को पढ़ने का काम एक कुशल ज्योतिषी ही कर सकता है लेकिन, अपनी हथेली को आप स्वयं देखकर समझ सकते हैं कि सरकार से आपको लाभ मिलेगा या नहीं।

समुद्रशास्त्र में बताया गया है कि जिनकी हथेली में सूर्य पर्वत उभरा हुआ होता है और उस पर बिना किसी कट के सीधी रेखा आती है तब सूर्य मजबूत होता है। सूर्य सरकार का कारक ग्रह है। इससे सरकारी क्षेत्र से धन का लाभ होता है। ऐसे लोगों को सरकारी नौकरी मिलने की भी अच्छी संभावना रहती है।

सूर्य पर्वत अनामिका उंगली की जड़ में स्थित है। गुरू को भी सरकारी क्षेत्र से लाभ दिलाने वाला ग्रह माना जाता है। गुरू पर्वत पर सूर्य पर्वत से चलकर कोई रेखा आ रही है तो इसका अर्थ है कि व्यक्ति सरकारी क्षेत्र में उच्च पद प्राप्त कर सकता है। राजनेता या कुशल सलाहकार होगा। ऐसा व्यक्ति सरकार से मान-सम्मान एवं धन प्राप्त करता है।

गुरू पर्वत पर कई सीधी रेखाओं का होना और गुरू पर्वत का उभरा होना भी सरकारी धन से लाभ को दर्शाता है। लेकिन जिनकी हथेली में गुरू पर्वत ज्यादा उभरा हुआ होता है वह अहंकारी होते हैं। इनमें अपनी बुद्घि और ज्ञान का अभिमान होता है। गुरू पर्वत हथेली में तर्जनी उंगली के नीचे होता है।

Samdura Shastra Aur Sarkari Naukari  - Hastrekha Aur Sarkaari Naukari

Wednesday, March 22, 2017

हस्त रेखा विशेषज्ञ का दायित्व - Hast Rekha Pandit

 हस्त रेखा विशेषज्ञ का दायित्व  




  
वकील, डाक्टर और हस्तरेखा विशेषज्ञ तीनों का एक काम है कि उनके पास जो व्यक्ति जाता है, वह अपने किसी समस्या को लेकर पहुंचता है। 

डाक्टर अनेक प्रकार से रोगी का परीक्षण करता है, वह जानता है कि भयंकर रोग है। फिर भी वह उसे नहीं बतलाता और रोगी को आश्वासन देता है कि वह ठीक हो जायेगा। रोगी भयंकर बीमारी के बाबजूद अपनी बलवती आशा से सफलता प्राप्त करने में समर्थ हो जाता है तथा अनेक रोगी ठीक भी हो जाते हैं। 

उनमें स्वयमेव अपनी शक्ति पर विश्वास ब-सजय़ जाता है, अपनी शक्ति, साहस, उत्साह के बल पर कार्य में जुट जाता है। ऐसी स्थिति में आपके चुम्बकीय शब्द अपूर्व शक्ति लेकर उस वातावरण में कम्पन्न पैदा कर देते हैं।   

हस्त रेखा विशेषज्ञ को अपने विषय से सम्बन्धित शास्त्र का पूरा ज्ञान होना जरुरी है। जो कुछ उसने सुन रखा है, जो उसके ध्यान में आया है, उसे बताने की जरुरत नहीं है। शास्त्रोक्त ज्ञान के आधार पर जो उसने खोजा था, जो सिद्धान्त उसने बनाये थे, उसके आधार पर रेखा, चिह्न, देश, काल, अवस्थानुसार परिस्थिति को ध्यान में रखते हुए भविष्यवाणी करनी चाहिए। 

बालक विद्या का प्रश्न करेगा, लड़की विवाह से सम्बन्धी पश्न पूछ सकती है। वृद्ध वैंक वैलेंस पूछ सकता हैं। इसलिए भविष्यवाणी करने में जल्दी न करें।   

हस्तरेखा देखते समय पुरुषों को उनकी उन्नति के वर्ष, नया कारबार, बिमारियों से सर्तकता रखने का समय, विवाह, लाभ, हानि, सन्तान, एवं चारित्रिक गुण आदि विशेषतः बताने चाहिए। 

स्त्रियों को पति का सुख, पुत्र के भाग्योदय का वर्ष, उनके द्वारा होने वाले धर्म-ंउचयकर्म, कथा, दान, पुण्य, सुख, दुख, पति प्रेम की विचारणीय बातों का वर्णन विशेष रुप से करना चाहिए।   

एक पामिस्ट सही मायने में लोगों को चेतावनी भी देता है, सु-हजयाव भी देता है और घटनाओं से आगाह कराता है, ताकि भविष्य में होनेवाली घटनाओं से लाभ उठाया जा सकंे और समय का सही उपयोग कर सकें, क्योंकि मानव को भविष्य इसलिए रोचक लगता है कि शेष जिंदगी भविष्य की गोद में बितानी है। 

जब हस्त रेखा देखकर भविष्य बताने की बारी आती है, तो अनेक बातों का ख्याल रखना होता हैं। जैसे-ंउचय भोजन के तीन घंटे बाद जब हाथ ज्यादा ठंडा हो, न ज्यादा गरम तथा ज्यादा छोटे बालकों का हाथ न देखा जाये। इसके अतिरिक्त आयु, देश, वातावरण को ध्यान में रखते हुए हाथ देखा जाय। 

केवल एक रेखा देखकर किसी भी निर्णय पर नहीं पहुँचना चाहिए। समस्त रेखाओं, चिह्नों और पर्वतों का अध्ययन करें उनके आधार पर ही कुछ कहना उचित होगा।   


 व्यायाम करने के बाद, मदिरा, मिठाई, लेने के बाद हाथ न देखा जाय, क्योंकि इस समय इंद्रियां उत्तेजनायुक्त होती हैं। इस कारण नाडि़यों एवं करतल का स्वाभाविक तत्व समाप्त हो जाता है। 

इसके अलावा रेखाओं का रंग भी बदल जाता है। हाथ देखने का समय सूर्योदय से 2 घंटे बाद का समय अधिक उचित होता है। अधिक गर्मी एवं अधिक शर्दी के समय भी हाथ देखना अनुचित होता है कारण कि हाथों का रंग प्रभावित होगा। अतः इन बातों का ख्याल रखना ही सफलता की सी-सजय़ी है।

Tuesday, March 21, 2017

Deaf and Dumb Indian Palmistry

Indications of deaf and dumb person


If headline is separated from lifeline at Mount of Rahu then it indicates person will have problem in speaking or hearing (may be deaf and dumb).

If headline is separated from lifeline at Mount of Rahu (underneath Mount of Saturn) or an island on head line underneath Mount of Saturn then the person may be deaf or dumb or having some issues related to this.


If break or an island on headline at Mount of Rahu and also an island at start of headline indicates above issues.

If headline is attached with lifeline and a clear island is there on start of headline and also on the end of headline then it indicates the person having the same issues as above.

If two to three big islands are there on headline attached together or separately one by one then it also indicates person having same issues.

These are only indications and it does not mean that having these signs only mean that person will be deaf and dumb.

Interpretation of condition can vary according to position of other lines on his hand.

You have to take the whole hand into consideration to come to final conclusion.


-Nitin Kumar
Copyright © 2011. All right reserved.

Quadrangle Palmistry


Quadrangle:  The space between Head Line and Heart Line known as Quadrangle.


Heart Line close to Head Line signifies heart rules on head.


Head line close to Heart line signifies head rules on heart.


Quadrangle wide on Upper Mars signifies seriousness, emotional.


Quadrangle wide under Mount of Sun signifies subject is always careful and thinks about his/her reputation.

Quadrangle wide under Mount of Saturn signifies careless person.


Quadrangle wide under Mount of Jupiter signifies ambitious.


Monday, March 20, 2017

हाथ कौन सा देखे? (Which Hand To Read Palmistry)

हाथ कौन सा देखे ?


हमारे मस्तिस्क में ये सवाल सबसे पहले आता है की हमको व्यक्ति का कौन सा हाथ देखकर फलादेश करना चाहिए, सीधा या उल्टा हाथ ?


कुछ विद्वानों का मत है की स्त्रियो और बच्चो का उल्टा हाथ और पुरषों का सीधा हाथ देखना चाहिए !कुछ विद्वानों का मत है की कामकाज करने वाली महिलायों का भी सीधा हाथ ही देखना चाहिए व उन पुरुषो का बाया हाथ देखना चाहिए जो आत्मनिर्भर नहीं होते !कुछ विद्वानों का मत है की जिस हाथ से व्यक्ति काम करता है या व्यक्ति जिस हाथ को ज्यादा उपयोग में लाता है उस हाथ को देख कर ही फलादेश करना चाहिए !

ये पोस्ट जरूर पड़ें :- 

इस विषय पर विद्वानों का मत अलग-अलग है ! हस्तरेखा शास्त्री को दोनों ही हाथो की रेखाओ को बराबर का महत्व देना चाहिए ! व्यक्ति के जीवन में आये उतार चढाव का फलादेश कर के पता करे की आपकी बात किस हाथ से सटीक मिल रही है, उसी हाथ को प्राथमिकता दे ! एक अच्छे हस्तरेखा शास्त्री को चाहिए की वो दोनों ही हाथो का निरिक्षण करने के पश्चात ही फलादेश करे |

- नितिन कुमार

Copyright © 2011. All right reserved.

फलित ज्योतिष - ASTROLOGY



भारतीय ज्योतिष फलित का आधार ग्रह, राशियां तथा भाव है। इसलिये ग्रहों, राशियों तथा भावों की संज्ञाओं का ज्ञान आवश्यक हो जाता है। भारतीय ज्योतिष में सात ग्रह तथा दो छाया ग्रहों को स्थान प्राप्त है। सूर्य, चन्द्र, मंगल, बुध, बृहस्पति, शुक्र तथा शनि सात ग्रह हैं तथा राहु केतु छाया ग्रह हैं।

ग्रहों के गुण धर्म

सूर्य–ज्योतिषीय दृष्टि से सूर्य पित प्रकृति, लम्बा, अल्प बाल, कूर ग्रह, ताबे जैसा रंग, राजसी, दार्शनिक, पूंजी उधार देनेवाला, दृढ़ इच्छा शक्ति, पद का प्रतीक है।

ईंधन, बिजली, चर्म ऊन सूखा अनाज, सोना, विष, औषधियाँ, चिकित्सक, राजा अधिकारी वर्ग तथा गेहू सूर्य के अधीन है। सूर्य बीजों का विकास करता है। सूर्य पिता का प्रतीक है। यह ब्रह्माण्ड की आत्मा, रागों से बचाने की शक्ति, शेर तथा भगवान शिव का भक्त है। कांटों वाले पेड़, स्वर्ण राजदूत, नेत्र का प्रतीक है। पुरुष ग्रह है।

सूर्य के द्वारा शासित स्थान है- खुले स्थान, पर्वत, वन प्रमुख शहर, पूजा के स्थान, न्यायालय, पूर्व दिशा, ऐसा स्थान जहां पानी न हो।

शरीर के जो भाग शासित हैं- सिर, पेट, हड्डियां, हृदय, नेत्र, मस्तिष्क।

सूर्य क द्वारा रोग- उच्चरक्त चाप, तीव्रज्वर, पेट तथा नेत्र संबंधी रोग, पितज बिमारियां तथा हृदय रोग देता है। जब सूर्य पीड़ित होता है तथा जलीय राशियों में स्थित होता है तो क्षय रोग, पेचिश रोग देता है। यह क्षत्रीय वर्ण, अग्नि तत्व, पुरुष लिंग तथा पूर्व दिशा का प्रतिनिधि ग्रह है।

चन्द्रमा- इसका शरीर स्थूल है। धुंघराले बाल, गोरा रंग तथा सुंदर आंखों का प्रतीक है। चन्द्रमा मन, माता, भ्रमण की रूची, रस, अस्थिर मन का कारक ग्रह है। रक्त प्रवाह का प्रतीक है। जलीय तत्व, झील, समुद्र, नदियां, कपड़ा, है।

शरीर को अंग– रक्त, नसे, मोटापा, मस्तिष्क, मन, यूरेटर, वास्ती, छाती, अंडाशय तथा प्रजनन का कारक ग्रह है।

रोग- रतिज रोग (Sexual diseases) सांस की बिमारी, त्वचा की बिमारियां, अपच मन्दाग्नि आदि विमारियों का कारक ग्रह है। यह कफ तथा वायु का कारक ग्रह है। यह वैश्य, वर्ण, जलीय तत्व, स्त्रीलिंग तथा उत्तर-पश्चिम दिशा का प्रतिनिधि ग्रह है।

मंगल- वलिष्ठ बाजु पतली कमर धुंघराले तथा चमकीले बाल, अग्निमय आंखें, क्रूर प्रकृति, अस्थिर बुद्धि का कारक ग्रह है। यह स्वतन्त्र प्रकृति, दुराग्रही, साहसी युवा ग्रह है। मंगल को अशुभ ग्रह कहते हैं। यह छोटे भाई, बुनाई को दर्शाता है। मंगल सेनाध्यक्ष है गर्म तथा अग्नि भय है, तर्क, रसोई, इंजन, अग्नि स्थलों का प्रतिनिधि है। रात्रि में काम कर वाले कर्मचारी, हत्या करने वाले, षडयन्त्र, शत्रु मजदूरों का नेता, का कारक ग्रह है।

पदार्थ- तांबा, धातु सोना, मूंगा, हथियार, भूमि, तम्बाकू, पर शासन करता है।

शरीर को अंग- रक्त, पेशी, पित्त, मस्तिष्क, सिर, नाक, कान आदि |

रोग- रक्त संबंधी रोग, उच्च या निम्न रक्तचाप, रक्तस्राव, दुर्घटनाएं, चोरियों, अग्नि से जलना, गर्भपात आदि। इसका क्षत्रिय वर्ण, पुरुष लिंग, अग्नि तत्व, दक्षिण दिशा का प्रतिनिधि ग्रह है।

बुध - बुध यदि शुभ ग्रहों के साथ संबंधित हो तो शुभ, अशुभ ग्रहों के साथ संबंधित हो तो अशुभ होता है। इसका अपना कोई प्रभाव नहीं होता जिसके साथ होता है वैसा ही हो जाता है। बुध हास्य विनोद का प्रतिनिधि ग्रह है। बहुत बोलता है। उसके पास विविध विषयों पर बहुत सारी सूचनाएं होती हैं। यह राजकुमार है। यह मितव्ययी, हरे वर्ण का पतला, व्यापारिक प्रकृति वाला, जनता की बात बोलने वाला। यह कामर्स, स्कूल, खेल का मैदान, पार्क, जुआघर, बरबादी कर खुश होने वाला ग्रह है।

वस्तुए लेखन प्रतिभा व्यापारी का प्रतिनिधि है।

शरीर को अंग रोग उन्माद, एवं गूंगापन। यह वैश्य वर्ण, नपुंसक, सम तत्व तथा उत्तर दिशा का प्रतिनिधि है |

बृहस्पति - इसकी आंखे तथा बाल भूरे कद लम्बा होता है। पेट आगे निकला होता है। यह स्थूलकाय ऊँची और भारी आवाज का स्वामी होता है। वह पुरुष वत्। शुभ, पीला रंग, पुरुष ग्रह है। सच्चाई, दार्शनिक प्रत्येक प्रकार के विज्ञान में रुचि रखने वाला धार्मिक भावभक्ति वादी ग्रह है। विवेक का मूल ग्रह है। यह धर्म गुरु ग्रह है। मन्त्री, सलाहकार, बैंक बीमा कम्पनियां, आकाश, तत्व, धर्म गन्थ और पारे का प्रतिनिधि है। पुत्र का कारक है।

वस्तुएं- धन, बैंक, पीली वस्तुएं सोना, पुखराज, चने की दाल, धार्मिक ग्रन्थ का कारक ग्रह है।

शरीर को अंग विवेक, शक्ति, उदर, जिगर, जंघा का कारक है।

रोग रोग - वसा को द्वारा उत्पन्न रोग | यह ब्राह्मण वर्ण, पुरुष लिंग, अग्नि तत्व तथा उत्तर-पूर्व दिशा का प्रतिनिधि है। शुक्र चेहरा, नक्श का प्रतिनिधि है। शुक्राणुओं का कारक ग्रह है तथा रति का शौकिन है | प्रेम सम्बन्ध आकर्षण व्यक्तित्व का स्वामी है | जालीय तत्व, पत्नी, सिल्क, संगीत का कारक है।

वस्तुएं इत्र, सजावट की वस्तुएं, सिल्क संगीत वाद्य यंत्र, ऐश्वर्य के साधन वाहन का प्रतीक है। मीठी वस्तुएं शरीर के अंग- रति क्रिया के अंग लिंग, मूलाशय, बाल, शुक्र कीटाणु, सूघने की शक्ति कम, श्वेत प्रदर, वीर्य पात आदि। यह ब्राह्मण वर्ण, जलतत्व स्त्री लिंग तथा दक्षिण पूर्व का प्रतिनिधि है।

शानि जातक रूखे-सूखे बाल, लम्बे बड़े अंग, बड़े दांत तथा वृद्ध शरीर काला रंग का दिखता है। यह अशुभ ग्रह है। मन्द गति ग्रह है। नैतिक पतन का द्योतक है। वायु सम्बन्धि बिमारियों का प्रतिनिधि है। यह दुख, निराशा तथा जुए का प्रतीक है। गन्दे स्थान, अंधेरे स्थानों का कारक ग्रह है।

रोग- सारे, पुराने, लाइलाज रोग, दांत, सांस, क्षय, वातज, गुदा के रोग, व्रण, जख्म दर्द जोड़ों का यह शूद्र वर्ण, वायु तत्व, नपुंसक तथा पश्चिमी स्वामी है।

राहु यह छाया ग्रह है परन्तु प्राणियों पर इसका पूरा प्रभाव रहता है। यह अशुभ ग्रह है। स्त्रियोचित है। भ्रष्ट संक्रामक रोगों का प्रतीक है।

यह शनि की ही तरह अशुभ है। यह स्त्रीलिंग ग्रह है। यह विदेश यात्रा का प्रतीक है। यह भौतिक वादी ग्रह है। यह षडयन्त्र कारी है। त्वचा तथा रक्त रोगों पर इसका अधिपत्य है। गोमेद इसका रत्न है।

शरीर के अंग- होठ, त्वचा, रक्तरोग, कुष्ठ रोग, श्वेत रोग, चैचक हैजा

केतु यह मंगल के समान ग्रह है। अचानक होने वाली घटनाओं का कारक है। इसका रंग धुएँ के समान चितकबरा रंग है।

यह आंत्रिक जोड़ो, चैचक, हैजा तथा संक्रांमक रोगों का प्रतिनिधि ग्रह है। यह अशुभ ग्रह है पर धार्मिक प्रकृति का ग्रह है। साम्प्रदायिक कट्टर पन्थी, घमंडी स्वार्थी तथा तंत्र विद्या का प्रतिनिधि ग्रह है।

यह भी राहु की तरह दक्षिण पश्चिम दिशा का स्वामी है। लहसुनिया इसका रत्न है।

Sunday, March 19, 2017

हाथ में मुड़ी हुई जीवन रेखा - हस्तरेखा (Twisted Life Line Palmistry)



जब जीवन रेखा इस प्रकार की हो कि उसमें एक मोड़ दिखाई पड़े तो वह मुड़ी हुई जीवन रेखा कहलाती है  । जीवन रेखा और मस्तक रेखा के मिली होने पर ऐसा प्रतीत होता है कि जीवन रेखा का उदय मस्तिष्क रेखा से ही शनि के नीचे से ही हुआ है परन्तु जब मस्तिष्क रेखा जीवन रेखा से अलग होकर रेखा के समानान्तर चल कर, मोड़ खाकर मस्तिष्क रेखा से अलग होती है। ऐसी रेखा को मुड़ी हुई जीवन रेखा कहते हैं, ऐसी जीवन रेखा दोनों हाथ में कम ही देखी जाती हैं। प्राय: एक ही हाथ मे ऐसी रेखा देखने में आती है तथा एक पिता की एक ही सन्तान के हाथ में यह रेखा पाई जाती है। दोनों हाथों में ऐसे लक्षण होने पर यह विशेष फलकारी होती है।

ऐसे व्यक्ति अपने जीवन में विशेष सफलता प्राप्त करने वाले होते हैं। साधारण हाथों में यदि अन्य लक्षणों के साथ-साथ मुड़ी हुई जीवन रेखा हो तो व्यक्ति की आर्थिक स्थिति पहले के मुकाबले में तीन गुनी अधिक अच्छी होती है। अत: यह लक्षण आर्थिक दृष्टि से बहुत ही उत्तम माना जाता है। दोनों हाथों में मुड़ी हुई जीवन रेखा होने पर तो अभूतपूर्व आर्थिक स्थिति होती है। इतना अवश्य कहा जा सकता है कि ऐसे व्यक्ति देर से स्थायित्व प्राप्त करते हैं, किन्तु भाग्य रेखा व अन्य लक्षण अच्छे होने पर आरम्भ से ही स्थायित्व प्राप्त कर लेते हैं। ऐसे व्यक्ति बहुत धनी रहते हैं। परन्तु मुड़ाव का समय निकलने के पश्चात् ही यह सब उपलब्धियां दिखाई पड़ती हैं। जिस समय तक मुड़ाव रहता है रुकावट, परेशानी, धन की कमी, विरोध तथा रोग आदि का सामना करना पड़ता है।

ऐसे व्यक्ति क्रोधी, सीधे, लापरवाह , स्वतन्त्र विचारों के व परिवार के लिए त्याग करने वाले होते हैं। ये किसी पर निर्भर रहना पसन्द नहीं करते। आरम्भ में नौकरी करते हैं तथा अवसर मिलते ही व्यापार में चले जाते हैं। ये इरादे के पक्के होते हैं।

स्त्री होने पर ऐसी स्त्रियां स्वतन्त्र, जिद्दी, पति के चरित्र पर शक करने वाली, अधिक बोलने वाली, साधारण तथा रोगणी होती हैं। इनके पति इनमें रुचि नहीं लेते। ऐसे पुरुषों को घर से बाहर रहने की आदत होती है या परिस्थिति-वश घर से बाहर रहते हैं। ऐसी स्त्रियां अपने सास-ससुर के साथ रहना पसन्द नहीं करती और अपने पति को अलग रहने की सलाह देती हैं। ये छोटी बातों को भी अधिक महसूस करने वाली होती हैं। आरम्भ में दाम्पत्य जीवन मोड़ की आयु तक कलहपूर्ण रहता है।

ऐसे व्यक्तियों का स्वयं का स्वास्थ्य, मध्य आयु में ठीक नहीं रहता तथा इसका प्रभाव इनके एक बच्चे के स्वास्थ्य पर भी पड़ता है। इनके आने वाली पीढ़ी में लम्बाई अपेक्षाकृत अधिक पाई जाती है। इस लक्षण के अलावा कान व पेट में दोष, घुटनों में दर्द, पत्नी को गर्भाशय दोष व स्वयं को अण्डकोष में दर्द आदि रोग पाये जाते हैं। हाथ कठोर होने पर यदि मुड़ी हुई जीवन रेखा गोलाई में न होकर सीधी हो तो कमर की हड्डी में दोष होता है। प्राय: देखा गया है कि कमर की हड्डी अपने स्थान से खिसक जाती है तथा उसका आपरेशन कराना पड़ता है। वस्तुत: ऐसे व्यक्तियों के शरीर में कैल्शियम की कमी रहती है। बुढ़ापे में इनकी कमर झुक जाती है।


Friday, March 17, 2017

Western Perspective Of Hand Reading

The Basic Modifiers : The Western Perspective for the Palmistry World
Book Review of “The Art and Science of Hand Reading”
Book written by Ellen Goldberg and Dorian Bergen
Review written by Janet Li



Palmistry is a big topic for us to discuss. It includes many schools of thought to analyses the future of the hand owner and their personality traits. Written by Ellen Goldberg and Dorian Bergen, this book “The Art and Science of Hand Reading” has chosen to use the basic modifiers to discuss this topic. The author said that it is the first subject of this book. This book has brought us a western perspective to enter into the world of palmistry.

With 532 pages, the book “The Art and Science of Hand Reading” is comprised of three main parts. The first part describes the basic modifiers that make each hand unique. It includes the texture, flexibility, consistency, coloring and size of the hand; the fingers; and the thumb. The second part outlines the meaning of the mounts. It talks about the seven archetypes of the palm. The third part talks about the lines of the hand. It shows the road map of the palm.

The most shinning part of the book is the first and the second parts. The first part has detailed the personality traits with the basic modifiers. The second part has used the basic modifiers to determine the concrete features of different people of each mount. The second part has blended the theory of chirognomy and chiromancy very well. Especially, the part of the mount with the illustration of the basic modifiers has blended the theory of chirognomy and chiromancy very well. It has told the personality traits of different mounts in terms of “texture of the skin”, “flexibility of the hand”, “consistency of the palm”, “color”, “hair”, “nails”, “finger length”, “fingertip shapes”, and the “thumb”. I agree that the author said “There is a good reason the basic modifiers are the first subject in this book.”

There are some main points in this book. For example, it said “Exactly how a person with medium-textured skin expresses finer or coarser qualities of an archetype will be shown by other indications in the hand, not by the skin texture.” And it said “As a measure of energy, consistency is one of the most important aspects of the hand. No matter what other indications are found, no matter how beautiful the development of certain mounts, no matter how rare a sign is found in the palm, the consistency of the hand can make or break the potential of these qualities.” This book has used a lot of elements of the basic modifiers to establish its point. These ideas are already very original to the reader from the Asian countries.

Unlike most Hong Kong palmistry book, this book has not put too much emphasis on the hand line and the hand shape. Maybe, it is the difference between the eastern and western palmistry. In the theory of the eastern palmistry, the author will put more energy to predict the fate of the owner. However, in the theory of the western palmistry, the author will put more energy to analyses the personality traits of the hand owners. This book has showed the western tradition of reading the hands.

One strength of this book is that the author uses a lot of pictures to tell the story. These pictures have reinforced the narrative of the hand features. It makes the readers more clearly know about the appearance of various kinds of hand features. More apparently is it uses the real hands to show the features of the hand, rather than the drawing. It will more clearly show the readers what it is said.

Another strength of this book is that the author spends much concentrations on the descriptions about the personality traits of different mount combinations. It has depicted clearly which kind of personal traits are for different kinds of people.

What is most impressing is that the book states accurately about my personal traits. For example, it states that “When Apollo leans toward Saturn it gives some of its ability to play and relax to the most serious and hardworking archetype. It helps Saturn to lighten up. When Saturn leans toward Apollo it gives some of its hardworking ethic to a mount that can sometimes waste its creative power in pursuing pleasures. It gives Apollo focus and direction.” That hand feature has accurately points out my personality traits. It is really amazing. It makes the title of this book “Classical methods for self-discovery through palmistry” alive.

One weakness of this book is that it has not told the readers which factor is the most important among the various factors of chirognomy to determine the personality traits of the owner. It has not clearly explained that point. If the author can point out more clearly which factor is most important, it will be better.

All in all, this is a great book. We should study that book seriously and follow what the author say “Always feel free to say you are student of palmistry and that you do not know in advance what you will be able to see.” To study palmistry is just like long-life learning. We should make an enquiry of the unknown with the curiosity.

My name is Janet Li. Based in Hong Kong, I am a writer who specializes in palmistry and a freelance reporter who is responsible for reporting the news for a financial and environmental magazine. My sample of works can be seen at www.clippings.me/users/janhealth

Thursday, March 16, 2017

Best Palmistry Book In Hindi | हस्तरेखा पर लिखी गई पुस्तके पढे


यदि आप हस्तरेखा सीखना चाहते है या फिर सीख रहे है तो बाजार से इन पुस्तको को खरीद कर एक बार अवश्य पढे । ये सभी पुस्तके गूगल बुक्स पर भी उपलब्ध है ।

1. वृहत संहिता
2. वृहत सामुद्रिकशास्त्र
3. हस्त संजीवनी
4. विवेकविलास
5. रेखा विमर्शिनी
6. स्कन्द शारीरिक
7. भोजकृत सामुद्रिक
8. सामुद्रिक रहस्य
9. सामुद्रिक सुधा - पंडित हरिदत्त शर्मा
10. हस्तरेखाविश्वकोश - पंडित हरिदत्त शर्मा
11. सचित्र सामुद्रिक विज्ञानं
12. हस्तरेखा विज्ञान - श्रीहरगोविंद दिवेदी
13. हस्तरेखा विज्ञान - गोपेश कुमार ओझा
14. हस्त मस्तक पाद रेखाय बोलती है , रहस्य खोलती है - डॉ. त्रिलोकचंद्र शर्मा
15. सूर्य , रंग, रत्न द्वारा चिकित्सा - प्रेम कपाड़िया
16. रत्न विज्ञान - केवलानंद जोशी
17. सचित्र सामुद्री रहस्य - भाषा टीका - कालिका प्रसाद
18. अस्त्रो-पामिस्ट्री के महत्वपूर्ण सूत्र - डॉ. भोजराज दिवेदी
19. ज्योतिष शास्त्र में रोग विचार - डॉ. शुकदेव चतुर्वेदी
20. चिकित्सा ज्योतिष - महर्षि अभय कात्यायन
21. सामुद्रिक चिंतामणि
22. हस्त परीक्षा द्वारा रोग निर्णय - प्रो. ओ. पी. वर्मा
23. उपचारीय ज्योतिष कौमुदी - कृष्णा कुमार पाठक
24. अंगुष्ठ से भविष्य ज्ञान - डॉ. भोजराज दिवेदी
25. सामुद्रिक शास्त्र भाषा तथा अंग लक्षण - पंडित गोविन्ददास "विनीत"
26. वृहत हस्तरेखा विज्ञान - प. नारायण श्रीमाली
27. हाथ की रेखाय बोलती है - कीरो
28. जैन मत पताका
29. करलक्खण (प्राकृत)
30. जैन हस्त रेखा शास्त्र
31. बृहज्जातक
32. नारदपुराण
33. बृहत् पराशर होराशास्त्र
34. भविष्य पुराण
35. सामुद्रिक विज्ञान अर्थात हस्त रेखा - श्री सुदशरणाचार्य
36. हस्त रेखा शास्त्र ( एक प्रमाणनिक अध्ययन) - श्री सोमनाथ एवं  राजेंद्र मिश्र
37. सचित्र हस्त रेखा सामुद्रिक शिक्षा - एन .पी. ठाकुर
38. हस्त संजीवनम - पंडित गणेशदत पाठक
39. पामिस्ट्री के अनुभूत प्रयोग - प्रो. दयानंद
40. चंद्र हस्त विज्ञान - चंद्र दत्त पन्त
41. ज्योतिष मंथन
42. A Hand Book Of Palmistry - Dr. R. L. Chaudhary
43. Law Of Scientific Hand Reading - W. G. Benham
44. Cheiro's Language Of The Hand
45. Practical Palmistry - Saint Germain
 

Tuesday, March 7, 2017

Y-Shaped Or V-Shaped Marriage Line

Y-shaped, V-shaped marriage line
If your marriage line is forked, y-shaped or  v-shaped, divided in two parts then it indicates bad marriage, unsatisfied married life, problem in married life, separation and divorce due to difference of opinion.

If you want to read more about marriage line in details then visit the below link:

http://indianpalmreading.blogspot.in/2014/02/signs-of-love-marriage-divorce-break-up.html

Sunday, March 5, 2017

Magarmach Or Crocodile Sign In Indian Palmistry



Sign of a Magarmach (Crocodile) is similar to fish mark and found on the end of lifeline. Magarmach sign indicates that the native is courageous, multi-millionaire and belongs to highest quality of men. Note :- This sign is not the final figure but there may be some other signs also.


Read also about "fish symbol on hand"

http://indianpalmreading.blogspot.in/2011/05/machli-fish-sign-indian-palmistry.html


Saturday, March 4, 2017

Thursday, March 2, 2017

समुद्रशास्त्र में भाग्य रेखा - हस्त रेखा



भाग्य रेखा हाथ में नहीं हो तब जीवन में काफी संघर्ष करने के बाद जीवन में सफलता मिलती है। लेकिन हथेली में भाग्य रेखा हो और इसे कोई रेखा काट जाए तो यह अधिक परेशानी देता है।  

इससे जीवन में काफी उतार-चढ़ाव का सामना करना पड़ता है। समुद्रशास्त्र के अनुसार हथेली में दोनों किनारों में से किसी भी ओर से कोई ऐखा निकलकर भाग्य रेखा को काटे तो यह संकेत है कि व्यक्ति को शत्रुओं से सावधान रहना चाहिए अन्यथा नुकसान होता है। इससे परिवार में मतभेद एवं कलह की स्थिति भी बनती है।

अंगूठे के पास से कोई रेखा निकलकर भाग्य रेखा को काटे तो यह संकेत है कि व्यक्ति के अवैध संबंध हो सकते हैं और काम-वासना में फंसकर अपना नुकसान कर बैठता है। ऐसे व्यक्ति को काम भावना के कारण धन एवं व्यवसाय में हानि होती है। उन्नति में बाधाओं का सामना करना पड़ता है।

जिनकी हथेली में कलाई से लेकर मध्यमा उंगली के नीचे तक सीधी रेखा आती वह बहुत ही भाग्यशाली होते हैं। इसके विपरीत हथेली में लहराती हुई भाग्य रेखा शुभ नहीं मानी जाती है। इन्हें व्यापार एवं नौकरी में बार-बार असफलताओं का सामना करना पड़ता है। जीवन में काफी उतार-चढ़ाव देखना पड़ता है।

समुद्रशास्त्र में बतया गया है कि भाग्य रेखा का हृदय रेखा पर आकर ठहरना ठीक नहीं होता है ऐसे व्यक्ति को प्रेम में असफलता का सामना करना पड़ता है। प्यार मुहब्बत के चक्कर में फंसकर ऐसा व्यक्ति अपने कैरियर का नुकसान कर बैठता है। मस्तिष्क रेखा पर भाग्य रेखा का आकर रूक जाना संकेत है कि व्यक्ति को अपने किसी गलत निर्णय के कारण हानि हो सकती है प्रगति बाधित होगी।

Hastrekha Vigyan Aur Avedh Sambandh

ONLINE PALMISTRY READING




SEND ME YOUR PALM IMAGES FOR DETAILED AND PERSONALIZED
PALM READING




Question: I want to get palm reading done by you so let me know how to contact you?


Answer: Contact me at Email ID: nitinkumar_palmist@yahoo.in.

Question: I want to know what includes in Palm reading report?

Answer: You will get detailed palm reading report covering all aspects of life. Past, current and future predictions. Your palm lines and signs, nature, health, career, period, financial, marriage, children, travel, education, suitable gemstone, remedies and answer of your specific questions. It is up to 4-5 pages.



Question: When I will receive my palm reading report?

Answer: You will get your full detailed palm reading report in 9-10 days to your email ID after receiving the fees for palm reading report.



Question: How you will send me my palm reading report?

Answer: You will receive your palm reading report by e-mail in your e-mail inbox.



Question: Can you also suggest remedies?

Answer: Yes, remedies and solution of problems are also included in this reading.


Question: Can you also suggest gemstone?

Answer: Yes, gemstone recommendation is also included in this reading.


Question: How to capture palm images?

Answer: Capture your palm images by your mobile camera
(Take image from iphone or from any android phone) or you can also use scanner.


Question: Give me sample of palm images so I get an idea how to capture palm images?

Answer: You need to capture full images of both palms (Right and left hand), close-up of both palms, and side views of both palms. See images below.






Question: What other information I need to send with palm images?

Answer: You need to mention the below things with your palm images:-

  • Your Gender: Male/Female

  • Your Age:

  • Your Location:

  • Your Questions:

Question: How much the detailed palm reading costs?

Answer: Cost of palm reading:


  • India: Rs. 600/-

  • Outside Of India: 20 USD
( For instant palm reading in 24 hours you need to pay extra Rs. 500 or 15 USD )
(India: 600 + 500 = Rs. 1100/-)
(Outside Of India: 20 + 15 = 35 USD)

Question: How you will confirm that I have made payment?


Answer: You need to provide me some proof of the payment made like:

  • UTR/Reference number of transaction.

  • Screenshot of payment.

  • Receipt/slip photo of payment.

Question: I am living outside of India so what are the options for me to pay you?

Answer: Payment options for International Clients:

International clients (those who are living outside of India) need to pay me 20 USD via PayPal or Western Union Money Transfer.

  • PayPal (PayPal ID : nitinkumar_palmist@yahoo.in)
    ( Please select "goods or services" instead of "personal" )

  • PayPal direct link for $20 (You will get reading in 9/10 days) - PayPal Payment 20 dollars
    PayPal direct link for $35 (You will get reading in 24 hours) - PayPal Payment 35 dollars
  • Western Union: Contact me for details.

Question: I am living in India so what are the options for me to pay you?

Answer: Payment options for Indian Clients:

  • Indian client needs to pay me 600/- Rupees in my SBI Bank via netbanking or direct cash deposit.

  • SBI Bank: (State Bank of India)

Nitin Kumar Singhal
A/c No.: 61246625123
IFSC CODE: SBIN0031199
Branch: Industrial Estate

City: Jodhpur, Rajasthan.
  • ICICI BANK:
(Contact For Details)

Email ID: nitinkumar_palmist@yahoo.in






Client's Feedback - April 2018



If you don’t have your real date of birth then palmistry is there to help you for future life predictions.  Our palm lines, signs, mounts and shapes which are very useful in predicting the person’s life. We can predict your future from the lines and signs of your both palms. We can predict your future by studying your palm lines and signs. There is no need to send us your date of birth , time of birth , place of birth etc . Palm told the personality ,future ups and downs thus a experienced palmist can guide you to deal with upcoming challenges with vedic remedies.