Friday, March 31, 2017





Husband Wife Ka Jhagra Khatam Karne Ka Saral Upay


Husband Aur Wife Ke Beech Ki Kalah Door Karne Ka Upay


Upay Number 1-


Yadi aap dono husband-wife (miya-biwi) ke sambhandh khraab hote ja rahe hai aur naubat talaak tak pahooch chuki hai to aap ye upay kar sakte hai.




husband aur wife sex jhagra

Pati Ka Gussa Shant Karne Ke Upay Aur Totke

Yadi aapke husband aap saath maar peet karte hai ya unka sambhandh kisi aur aurat se hai to aap ye upay aajma skati hai. Yadi aapki biwi aapki baat nahi sunti aur maayke ja kar bait jaati hai to aap ye upay kar sakte hai.

Brihastpatiwar (Thursday) ya Shukarwar (Friday) ke din raat ko 11 pm se 12 am ke beech jab aapke pati so rahe ho to chupchap aap unke 8-10 sir ke baal kaat lijiye aur apne pass rakh lijiye. Aap kisi bhi gupt jagah pr un baalo ko sambhaal kar rakh lijiye aur next Friday ya Guruwar ko unko ghar ke bahar jala dijiye aur apne pairo se masal dijiye.

Pati apni patni ke liye same procedure ko follow karein.


Upay Number 2-

Patni ko chahiye ki ghar ke puja ki jagah pr peele gainde ke fool rakh kar pisi hui haldi ke do-chaar cheete maar de aur phir is phool ko ganga jal mein pees le aur phir us se tilak lagay. Isko tilak vashikaran bolte hai.

Aap kisi bhi sheeshi mein gainde ke phool ko pees kar uska lep bana kar rak sakte hai. Aapko roz roz ye kriya karne ki jaroorat nahi hai.


Upay Number 3-

Jis kamre mein aap pati patni sote hai us kamre mein desi kapoor kisi mitti ke kullad ya mitti ki plate mein rakh kar jalay. Aisa karne se aap dono ke beech mein ho rahi kalah band ho jaaygi.




Yadi aapke pati kisi dusari aurat ke vash mein hai ya aapke pati ke sambhandh kisi dusari aurat ke sath bhi hai to aap neeche di gayi post ko bhi padein:- Sautan Se Mukti, sotan se chutkara pane ke liye totake, sautan problem solution, sautan se chutkara pane ke totke in hindi, sautan ko dur karne ke upay, dusri aurat se chutkara, sautan se chutkara pane ka wazifa, dushman se chutkara mantra.

Sautan Se Chutkara Pane Ka Totka



Aap apne satru se paresan hai to ye upay karein- Aajkal dushman jyada aur sacche dost kam hote hai aur aise mein aapko kisi na kisi protection ki jaroorat hoti hai aur iske liye aap neeche diye gaye totke ko kar sakte hai.

Apne Satru Se Peecha Chudana






पक्षियों का सतनाजा

पक्षियों को अनाज डालने वाले पाठक अवश्य पढे

क्या आप पिछले अनेक वर्षों से पक्षियों को सतनाजा या अनाज डाल रहे हैं और फिर भी परेशान हैं तो आप हमारी बात पर चिन्तन करें। यह तथ्य हमारे पिछले 30 वर्षों के अनुभव द्वारा प्रमाणित है। पक्षियों को सतनाजा अथवा कोई विशिष्ट खादय सामग्री आप किसी पार्क या इसके लिए निर्धारित किसी विशिष्ट स्थान पर ही डालें ।



यदि आप अनाज अपनी छत पर डालते हैं तो आप अपना व अपने बच्चों का अहित कर रहे हैं। हमारे बहुत से ग्राहक हर रोज अपनी छत पर सतनाजा डालते हैं। अनाज खाने के बाद पक्षी वहां पर अपनी बीट करते हैं जिससे गन्दगी छत पर फैलती है। बहुधा इसमें से दुर्गन्ध भी आती है। गन्दगी का प्रभाव हमारे सिर अथवा मस्तिष्क पर पड़ेगा जिससे हमारे विचार दूषित होंगे। ऐसे घरों में रहने वाले विद्यार्थियों का शिक्षा से ध्यान भटक जाता है तथा गलत विचारों के कारण उनकी संगति खराब हो जाती है। इससे घर में क्लेश व झगड़ा होता है। इस रहे हैं वहीं अपने घर में अशांति फेला रहे हैं। अतः पक्षियों के लिए अनाज आप उनके लिए निश्चित स्थान पर ही डालें । अपनी छत को आप साफ व स्वच्छ रखें ताकि आपकी बुद्धि स्पष्ट व निर्मल रहे। अगर कोई शंका हो तो सौभाग्य दीप कार्यालय में पत्र द्वारा पूछताछ करें।

नितिन कुमार पामिस्ट




शनि शांति के तांत्रिक उपाय

शनि से पीड़ित व्यक्ति के लिए तांत्रिक उपाय  


जीवन को तिल-तिल जीना सत्य में नरक के समान है। एक भी अशुभ ग्रह जीवन को विषाक्त बनाने के लिए पर्याप्त है इसलिए निरन्तर ऐसा प्रयास करना चाहिए कि हमारे सामने अशुभ ग्रह छाती तानकर खड़ा हो जाए, उससे पहले हम सतक हो जाएं चाहे वह रोग के रूप में ही अथवा कोई शत्रु हो, क्योकि आज समाज में अकारण ही स्वाथ को वशीभूत होकर जीवन को किसी भी मोड़ पर आप पर शत्रु आघात कर सकता है | इसलिए अपनी सुरक्षा के लिए सदैव प्रयास करते रहना चाहिए । यह लेख इसलिए आपके समक्ष प्रस्तुत किया जा रहा है क्योंकि इसे एक पीड़ादायक शनि हो उसका शमन प्रायः निशि्चत है ।

शनि शांति के तांत्रिक उपाय



नौ ग्रहों में शनि ही एक मात्र ऐसा ग्रह है, जो जातक के जीवन के समस्त क्लेशों को शांत एवं समाप्त करने में सक्षम है, चाहे वह किसी भी भाव से हुआ हो, चाहे किसी भी प्रकार की देविक अथवा भौतिक बाधा हो, शनि प्रयोग से वह एकदम समाप्त हो। सकती है । ज्वर, हार्ट अटेक ब्लड प्रेशर, शुगर (डायबिटीज), शरीर फूलना, मोटापा होना, नेत्रों की रोशनी का निर्बल होना, मूत्र से सम्बन्धित रोग, गभाशय से सम्बन्धित रोग अादि सर्भो प्रकार के रोगों का उपाय इस शनि प्रयोग से किया जा सकता है।


शनि के विषय में कहा जाता है, जिस दिन शनि का प्रयोग सम्पूर्ण होता है, उसी दिन से जातक को आराम मिलना प्रारम्भ हो जाता है, पर एक दिन में एक बार ही प्रयोग करना चाहिए ।


मूलतः प्रभावी शनि ग्रह श्रेष्ठ योग अवश्य बनाता है, इस कारण भी शनि को अनुकूल बना लेना आवश्यक है। शनि का शुभ प्रभाव रोगनाश के लिए और शत्रुनाश के लिए विशेष प्रभावकारी रहता है। शनि से सम्बन्धित सभी प्रयोगों को जातक स्वयं कर सकता है, या घर का कोई सदस्य भी यह कर सकता है | दिखने में भले ही यह प्रयोग सामान्य प्रतीत हो, पर पाठको को लिए यह प्रयोग वरदान है | इन उपायों से वह किसी भी प्रकार के शनि के अनिष्ट प्रभावों का शमन कर सकता है ।

पाठकों की सुविधा के लिए मैं शनि ग्रह की तांत्रिक साधना का उल्लेख कर रहा हूं। मेरा पाठकों से अनुरोध है कि वे इस अध्याय में दिए गए मंत्र एवं विधि-विधान को पढ़कर ही उपाय आरम्भ करे ।

शनि की ये साधना दुर्बल हृदय वालों के लिए बिल्कुल अनुकूल नहीं है। ऐसे व्यक्ति जो उच्च रक्तचाप के रोगी हो, ये अनुष्ठान कभी न करें। इस तांत्रिक साधना में अनेक बार संकट आ जाता है। अतः सावधान रहकर ज्योतिर्षी के निर्देशों के अनुसार ही अनुष्ठान करें।

सामग्री-
पहनने के लिए चमकीले काले वस्त्र, गुग्गल की धूप, गुलाब की अगरबत्ती, कच्ची काले हकीक की माला, शनि यंत्र, सरसों का तेल एवं काले तिल, भोग के लिए काली उड़द के बड़े अथवा तेल से रंगे काले चावल ।

शनि देव को प्रसन्न करने के लिए निम्न नियमों का पालन करें। साधना काल में ब्रह्मचर्य का पालन करें। वचन मन एवं कर्म से पवित्र रहें। साधना को गुप्त रखें। मांस-मदिरा का सेवन न करें। बेईमानी से दूर रहें। साधना सिद्ध गुरू के निर्देशन में ही करें। मन को वश मे रखें।

सर्वप्रथम साधना हेतु संकल्प लें। संकल्प इस प्रकार है-
हरि ऊँ विष्णुर्विष्णुर्विष्णु तत्सदित्यत्यादि देश कालावुच्चार्य अमुक गोत्रोप्तपन्नोअमुक नामाह श्रुति स्मृति पुराण तंत्रोक्त फलातप्ते जन्म वर्ष मास दिनेषु अनिष्ट कारक ग्रहेष्णु, सानुकॣल सिद्धयर्थी सर्वाधिव्यापि शमनार्थ दीर्घायुष्य पुष्टिमैरूज्यादि सकलेष्ट सिद्धये श्री मन्महामृत्युंजय प्रीतार्थ सहस्त्रयुत। लक्ष कोटि संख्यकाको श्री मन्महामृत्युंजय जपमहंकरिष्ये।

यह लगभग निश्चित और स्पष्ट है कि शनि का प्रयोग सम्पन्न करने से आने वाले विपत्ति, बाधाएं और भीषण रोग पहले से ही समाप्त हो जाते हैं।

इस प्रकार से देखा जाए तो यह आने वाले अशुभ समय को नियंत्रण में लेने का प्रयोग भी है। इससे शिशु की रक्षा तो होती ही है, अगर शिशु रोगी हो या निर्बल हो या किसी प्रकार का उसे कष्ट हो तो उसके लिए भी यह प्रयोग सम्पन्न किया जा सकता है।

प्राण प्रतिष्ठित सूर्य–पुत्र शनि का यंत्र तथा काली हकीक की माला ले लें । यह 21 दिवसीय प्रयोग है। स्नान आदि करके शुद्ध वस्त्र पहन लें, पश्चिम की ओर मुख करके काले आसन पर बैठे | सामने चौकी पर आसन बिछा दें, एक शनि चित्र स्थापित करें गुलाब की अगरबत्ती और सरसों के तेल का दीपक जला ले, दीपक को अपनी बाई और रखें पंचपात्र में जल लेकर पवित्रीकरण और आचमन करें, दोनों हाथ जोड़कर सामने चौकी पर बिछे हुए वस्त्र पर साबुत काली उड़द के ऊपर प्राण प्रतिष्ठित शनि यंत्र स्थापित करें और दाहिने हाथ में जल लेकर विनियोग करें-
अस्य श्री शनैश्चरस्तोत्रस्य दशरथः ऋषिः शनैश्चरो देवता, त्रिष्टुपछद: शनैश्चरप्रीत्यर्थ जपे
विनियोगः।

जल को भूमि पर छोड़ दें। दोनों हाथ जोड़कर शनि देव का ध्यान करें। इसके पश्चात् यंत्र का कुकुम, अक्षत, धूप, दीप और पुष्प के साथ पंचोपचार पूजन करें।

प्रयोग करते समय अगर साधक स्वयं के लिए यह प्रयोग सम्पन्न करे तो स्वय का नाम उच्चारण करे या किसी अन्य को लिए या परिवार के किसी व्यक्ति के लिए करे तो उपयुक्त यही रहेगा कि जाप के विधि-विधान का पूरा पालन करे ।

शनि क्रूरता का प्रदर्शन करको जातक को दुःख देकर स्वर्ण को समान बना देता है | शनिदेव जातक को दु:ख की अग्नि में तपाकर उसे भीतर से शुद्ध भी कर देते हैं। शनिदेव को प्रसन्न करने के लिए तथा दु:ख दूर करने के लिए शनि को प्रयोग का विधान है | उपाय को अंतिम दिनं अपनी मनोकामना। दोहराकर शनि पूजन सुयोग्य पंडित से कराएं। लोहे के पात्र में शनिदेव की काली लोहे की रंगी प्रतिमा स्थापित करें | प्रतिमा को काले वस्त्र रखें और पूजन अर्चन करें | किसी बर्तन में काली इलायची, लोग, लोहे का छोटा सा डालें तथा पश्चिम की और अपना मुख करके पीपल की जड़ में उसे तिरोहित कर दें।

यह सब करने से पहले शनि मंत्र का जाप करें। उड़द के आटे की रोटी बनाये तेल का पकवान काले कुत्ते को खिलायें । तेल में बने पदार्थ स्वयं खायें । उपाय पूर्ण होने पर चमकीला काला वस्त्र, कम्बल, उड़द, तेल आदि वस्तुएं दान करें। शनि की वस्तुएं घर में स्थापित करें। इस प्रकार जातक के दु:खों का निवारण होता है। शनिदेव के प्रति श्रद्धाभाव रखें। अब प्रश्न उठता है कि शनि के मंत्र जाप कितनी संख्या में किये जाएं।

जाप की संख्या इस प्रकार है : -
प्राकृतिक आपदाओं में दस सवा लाख, शनि प्रकोप निवारण हेतु ग्यारह हजार, महामारी में सवा करोड |

शनिदेव ने अपने निवास का विवरण स्वयं जातक को इस प्रकार से दिया है| रवि अर्थात्
सूर्य एक राशि पर एक माह, चन्द्रमा सवा दो दिन, मंगल डेढ़ माह, गुरू (बृहस्पति) तेरह महीने, बुध और शुक्र एक-एक महीने, राहु और केतु उल्टे चलते हुए केवल अट्ठारह महीने ही एक राशि पर रहते हैं, परन्तु में एक राशि पर ढाई और साढ़े सात वर्ष तक रहता हूं।

प्रिय पाठकों ! अब शनि का जप मंत्र प्रस्तुत है -
ऊँ प्रां प्रीं प्रों स: शनिश्चराय नमः।

मुझे पूरा विश्वास है कि अगर आप उपरोक्त बातों को ध्यान में रखेंगे तो शनिदेव अाप पर
सदैव कृपा करते रहेंगे ।

अंत में मुझे केवल इतना ही लिखना है, सूतजी ने भी एक स्थान पर कहा है– हे मुनिवरो ! शनिवार को शनि का उपवास, पीपल का पूजन तथा भगवान शनि का दर्शन और पूजन कर शनिवार व्रत। उपवास कथा को सुनने से निर्धन हो, सभी प्रकार की संभव कामनाओं की पूर्ति होती है। अनेक प्रकार के सुख भोग अंत में शिवलोक की प्राप्ति होती है। शनि कथा के कहने व सुनने वाले दोनों के सभी मनोरथ पूर्ण होते हैं।

You May Also Like:
Durbhagya Door Karne Ke Liye Jyotish Samgari

नितिन कुमार पामिस्ट





Dukan Ki Bikri Badane Ke Liye Saral Totka/Upay

Dukaan Nahi Chalti To Karein Ye Saral Upay



Jin dukandaro ki factory ya shop bahut kosheesh karne ke baad bhi nahi chal rahi hai aur karza badta ja raha hai to wo log ye achook totka kar ke dhan labh prapt kar sakte hai.


Dukan Ki Bikri Badane Ke Liye Saral Totka/Upay

Ye totka guruwar ko shuru karna hai aur har guruwar ko karna hai. Dukaan ke mukhya dwaar (main gate) ke ek kone (corner) ko gangajal se shudh kr lena hai aur shudh karey hui jagah pr aapko haldi se swastik banana hai aur phir us swastik pr gud aur chawal chipka dena hai aur agarbatti karni hai. Aisa aapko har guruwar karna hai. Ye kaam aapko subah 11 baje se pehly karna hai.


Aapko swastik banane ke baad usko baar baar nahi dekhna hai warna aapko fayde ki jagah nuksan bhi ho sakta hai.








लाजवर्त : 

लाजवर्त को धारण करने के बाद व्यक्ति पर राहु, शनि और केतु का दुष्प्रभाव खत्म हो जाता है । शनि , राहु और केतु के प्रकोप से बचाता है और दुर्भागय को दूर कर के व्यक्ति को सफलता दिलाता है । व्यक्ति पर बुरी नजर, काला जादू , टोने - टोटके का प्रभाव नहीं होता है । लाजवर्त कोई भी व्यक्ति धारण कर सकता है और सिद्ध कर के भेजा जाता है । भारत के सभी राज्यों के शहरो और गाँवों में कोरियर या स्पीड पोस्ट से भेजने की सुविधा है और भारत के बाहर विदेश में भी भेजने की सुविधा है ।

Laajwart Benefits : 

Lajwart nullify the malefic effects of Planet Saturn, Rahu & Ketu and protects from black magic, and evil eye. Removes Depression and laziness. Gives good success in career and in business. You will get energized Lajwart by courier at your home. You need to wear Lajwart in your right hand's middle finger in silver ring on Saturday. Male and female both can wear it. No side effect of Lajwart.  


लाजवर्त पत्थर के लाभ :

लाजवर्त तीनो क्रूर ग्रहो (शनि, राहु और केतु ) के दोषो और दुष्प्रभावो को खत्म करता है । 

यदि आपको शनि की साढ़ेसाती चल रही है तो आप लाजवर्त धारण कर सकते है और लाभ प्राप्त कर सकते है ।   

यदि किसी व्यक्ति द्वारा घर पर या आप पर कुछ किया-कराया हुआ अनुभव होता हो या फिर घर में वास्तुदोष हो तो लाजवर्त को धारण करने से लाभ मिलता है । 

काला जादू ख़त्म करता है और बुरी नज़र से बचाव करता है |

यदि आपको केतु और राहु की महादशा या अन्तर्दशा चल रही है तो आप लाजवर्द धारण कर सकते है और लाभ प्राप्त कर सकते है । 

नौकरी और व्यवसाय में आ रही अड़चनो को दूर करता है । 

पितृ दोष को खत्म करता है ।  

लाजवर्त विद्यार्थियों के लिए अत्यंत लाभदायक है । लाजवर्त विद्यार्थी का आत्म विश्वास बढ़ा देता है और विद्यार्थी की शिक्षा में एकाग्रता भी बढ़ जाती है । 

लाजवर्त को धारण करने के बाद धीरे धीरे आपके व्यवसाय में तरक्की होती है | यदि व्यवसाय काला जादू या टोना - टोटका की वजह से मंदा चल रहा है तो आपको लाजवर्त धारण करने से लाभ अवश्य मिलेगा ।   

अगर घर में बरकत नही होती है तो बरकत होने लगती है | 

अगर आपके शत्रु ज़्यादा है या आपका शत्रु आपको परेशान करता है या आप पर जादू टोना करवाता है तो आपका उसके किए हुए जादू टोना से बचाव करता है और आपके शत्रु को परास्त करता है | आपका शत्रु आपके सामने शक्तिहीन हो जाता है | 

लाजवर्त को धारण कर ने से डिप्रेशन/तनाव दूर होता है । और सेहत अच्छी होती है ।  

लाजवर्त  राहु, केतु और शनि द्वारा आ रही बाधाओ को दूर करता है और व्यक्ति को सफलता मिलने लगती है |

लाजवर्त को धारण करने के बाद व्यक्ति का दुर्घटना और एक्सीडेंट से बचाव रहता है । 

यदि आपकी कुंडली में कालसर्प दोष है तो आपको लाजवर्त धारण कर ने से लाभ अवश्य मिलेगा ।   

आपको लाजवर्त शनिवार को चाँदी की अंगूठी में बनवा के सीधे हाथ की मध्यमा उंगली (middle finger) में धारण करना है | 

आपको लाजवर्त कौरीयर सर्विस या स्पीड पोस्ट से भेजा जायगा और ट्रॅकिंग नंबर दिया जायगा |

सवाल और उनके जवाब :- 


सवाल: लाजवर्त को कैसे धारण करें ? 
जवाब: आपको लाजवर्त शनिवार को चाँदी की अंगूठी में बनवा के सीधे हाथ की मध्यमा उंगली (middle finger) में धारण करना है | 


सवाल: लाजवर्त (Lajwart) कैसे मिलेगा ? 
जवाब: आपको अपने घर का पता देना है और आपके घर के पते पर लाजवर्त (Lajward) कौरीयर सर्विस या स्पीड पोस्ट ( डाक ) से भेजा जायगा और ट्रॅकिंग नंबर और रसीद दी जाएगी | आपको लाजवर्त 5-6 दिन में मिल जाएगा । 


सवाल: पेमेंट कैसे करना है ? या पैसे कैसे भेजने है ? 
जवाब: आपको पैसे नीचे दिए गए SBI बैंक खाते में भेजने या जमा करवाने है |

सवाल:  क्या लाजवर्त (Lazward) को कोई भी राशि या लग्न वाला व्यक्ति धारण कर सकता है ?
जवाब :  हाँ । 

सवाल :  क्या लाजवर्त मिलने के बाद पेमेंट कर सकते है ?
जवाब :  ये सुविधा (COD) उपलब्ध नहीं है इसलिए आपको पहले मेरे अकाउंट में पेमेंट करना होगा और फिर आपको लाजवर्त भेजा जाएगा ।  



Price :

Lajwart Gemstone Rs. 600/- (No extra shipping charges) लाजवर्त की कीमत सिर्फ Rs. 600/- है और भेजने का कोई शुल्क नहीं है ।


SBI Bank: 
(State Bank of India)

Nitin Kumar Singhal
A/c No.: 35109551560
IFSC CODE: SBIN0003258
Branch: Shastri Nagar
City: Jodhpur, Rajasthan.


ORDER NOW

आप मुझको ईमेल भी कर सकते है और व्हाट्सप्प पर भी संपर्क कर सकते है । 

Email ID: nitinkumar_palmist@yahoo.in

 


यदि आप लाजवर्त खरीदना चाहते है तो व्हाट्सप्प पर संपर्क करें । 
WHATSAPP: 8696725894

पार्सल ट्रैकिंग कैसे करें :-

अपने पार्सल का स्टेटस जानने के लिए या क्लिक करें । इस इंडिया पोस्टल विभाग की वेबसाइट पर आपको जो रसीद दी गयी है उस रसीद पर जो नंबर (ट्रैकिंग कोड) लिखा है उसको डालना है और ट्रैकिंग कोड डाल कर एंटर करने पर आपको आपके पार्सल की पूरी जानकारी मिल जाएगी की वह आपको कब तक मिल जाएगा और अभी कहा तक पंहुचा है ।

Tracking Website: http://www.indiapost.gov.in/speednettracking.aspx



उदहारण के तौर पर आप ये ट्रैकिंग नंबर: ER855949383IN डाल कर चेक कर सकते है । ये ट्रैकिंग नंबर डालने पर आपको जानकारी प्राप्त होगी की इस पार्सल को जोधपुर से 01/10/2015 को बुक किया गया था और व्यक्ति को 03/10/2015 को नई दिल्ली में अपने घर पर मिल गया है । 





कुबेर बीसा ऋण मुक्ति यंत्र

कर्ज उतारने के लिए अत्यंत लाभदायक कुबेर यन्त्र 

जिस व्यक्ति के जीवन में निरन्तर आर्थिक समृद्धि उत्तम स्वास्थ्य तथा सहयोगी परिवार होता है उसे सुखी माना जाता है। कभी कभी कुछ गलत निर्णयों के कारण प्रायः व्यक्ति के चलते हुए कार्य में रूकावट आ जाती है तथा आर्थिक समृद्धि के बजाय आर्थिक हानि होने लगती है, ऐसे में व्यक्ति की जमा पूंजी शीघ्रता से समाप्त हो जाती है। उसे अपनी व्यावसायिक व पारिवारिक जिम्मेदारियों का निर्वाह करने के लिए ऋण लेना पड़ता है, यहीं से उसकी आर्थिक अवनति आरम्भ होती है।

कुबेर बीसा ऋण मुक्ति यंत्र

प्रायः बहुत कम लोग ही ऋण रूपी राक्षस के चंगुल से छूट पाते हैं। ऋण लेने वाले व्यक्तियों को अधिकांशतः अपनी किसी न किसी सम्पत्ति से हाथ धोना पड़ता है। यदि आप भी ऋण के कष्ट से किसी भी रूप में त्रस्त हैं, ऋण लेने की इच्छा रखते हैं या आपकी आर्थिक स्थिति कमजोर होती जा रही है और आपको भूमि, भवन, वाहन की खरीदारी या व्यावसायिक गतिविधियों को चलाने अथवा पारिवारिक आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए ऋण लेने की आवश्यकता पड़ रही है तो आप सौभाग्य दीप द्वारा निर्मित 'कुबेर बीसा ऋण मुक्ति यंत्र' अपने पास रखें। इसके प्रभाव से भगवान कुबेर की कृपा प्राप्त होती है, जिससे व्यक्ति की आय में निरन्तर वृद्धि होती है तथा ऋण लेने की आवश्यकता नहीं पड़ती। यदि आपने पहले ही कोई ऋण ले लिया है तो वह भी शीघ्र ही समाप्त होने के आसार बनने लगते हैं। कुबेर बीसा ऋण मुक्ति यंत्र को आप अपने पर्स या पूजा स्थान में रख सकते हैं। भगवान कुबेर व मां भगवती की कृपा से आपको अवश्यक सफलता मिलेगी। शुद्ध ताम्र यंत्र पर बने भगवान कुबेर व मां दुर्गा के यंत्रों को उपयुक्त मुहूर्त में एक साथ सिद्ध करके अच्छी पैकिंग में आपके पास भेजा जाता है ताकि आपको इसका पूरा प्रभाव प्राप्त हो सके। सभी आर्थिक समृद्धि देने वाले कार्यों में सफलतादायक कुबेर बीसा ऋणमुक्त यंत्र अपने घर में स्थापित करें ।

नितिन कुमार पामिस्ट




बीसा यन्त्र

आकर्षण , कार्यसिद्धि , शिक्षा , रोग निवारण के लिए बीसा यन्त्र 

बीसा यन्त्र में लगाने से रत्नों का प्रभाव कई गुना बढ़ जाता है । इसी से मिलती है नौकरी व व्यवसाय में प्रगति , भाग्यवृद्धि , धनवृद्धि, मानसिक शांति और शत्रुओ से सुरक्षा । 

बीसा यन्त्र


1 . बीसा आकर्षण लाकेट-
जनसंपर्क के कार्यो में सफलता , दाम्पत्य जीवन में सुख शांति, विवाह में विलम्ब को दूट करने व रुके हुए कायों को शीघ्र पूरा करने के लिए आकर्षण लॉकेट का प्रयोग बहुत लाभदायक होता है। आकर्षण की शक्तियों में वृद्धि करने के लिए अलेग्जैंडर व पीताम्बरी को बीसा लाकट के साथ जोड़कर आकर्षण बीसा लॉकेट तैयार किया जाता है जो इसकी सकारात्मक शक्तियों में काफी वृद्धि करता है। व्यावसायिक कायों में प्रगति, व्यावसायिक गतिविधियों में तीव्रता लाने व विस्तार करने, आर्थिक संकटों व व्यवधानों को दूर करने, पहले से लिए गए ऋण को उतारने के लिए सहायता करने व्यक्ति को मानसिक रूप से सुदृढ़ करने, देश विदेश में विभिन्न कायों में सफलता में सहायता करके मान प्रतिष्ठा में निरन्तर वृद्धि करने तथा आर्थिक व सामाजिक रूप से सुदृढ़ बनाने में बीसा आकर्षण लाकट बहुत ही लाभदायक है। नौकरी में प्रगति मार्केटिंग के व्यवसाय तथा स्वरोजगार में लगे व्यक्तियों के लिए यह लाकट रामबाण उपाय है।

2. बीसा सरस्वती लॉकेट -
सभी कार्यो में आसानी से सफलता देती है। विद्यार्थियों को परीक्षा में सफलता, नौकरी पेशा । व्यक्तियों के लिए उपलब्ध अवसरों का लाभ उठाने, प्रतियोगिताओं में आगे रहने व अपने कार्यक्षेत्र में उत्कृष्टता । प्राप्त करने तथा निजी व्यवसायियों के लिए मार्कटिंग में अग्रणी बने रहने तथा अपनी कार्यकुशलता को बेहतट | तरीके से प्रस्तुत करने में बीसा सरस्वती लाकट अत्यन्त । सहायक होता है। स्मरण शक्ति में वृद्धि, वाणी के प्रभाव से पूर्ण होने वाले कायों में सफलता व धारण करने वाले | व्यक्ति को मानसिक रूप से प्रसन्नतावर्धक तथा | शारीरिक रूप से सुदृढ़ स्थिति में टखने के लिए बीसा यत्र में अलेग्सेंडर व जेड पन्ना का प्रयोग करके विशेष रुप से तैयार किया गया यह लाकेट विद्यार्थियों, युवाओं व सभी आयु वर्ग के व्यक्तियों के लिए अतिलाभदायक है।
3. बीसा कार्यसिद्धि लॉकेट -
किसी विशिष्ट कार्य की सिद्धि, नई नोकरी या नया व्यवसाय आरम्भ करने, अधूरे व रुके हुए कार्यों में शीघ्र सफलता प्राप्त करने हेतु इस लाकेट का प्रयोग किया जाता है। इसमें बीसा यंत्र के साथ गोमेद तथा अलेक्जेंडर रत्न लगाया जाता है । कोर्ट कचहरी, आपसी लड़ाई झगड़े व विद्वेष की भावना को दूर करके यह लाकेट प्रेम व भाईचारे की भावना को बढ़ाता है व संबंधित व्यक्ति को अपनी ओर आकर्षित करने में सहायक होता है।

4. बीसा रोग निवारण बीसा लॉकेट -
आलस्य , थकान , मानसिक अशांति , असाध्य शारीरिक रोगों, निराशा व तनाव उत्पन्न करने वाली सभी परिस्थितियों को दूर करके यह लाकोट धारण करने वाले व्यक्ति को ताजगीं, स्फूर्ति व बलवृद्धि देता है। इसमें शनि ग्रह के उपरत्न नीली व राहु ग्रह के ऱत्न गोमेद का प्रयोग किया जाता है। इनके प्रभाव से निराशामय वातावरण दूर होता है तथा धारक को सभी सकारात्मक शक्तियां प्राप्त होती हैं।

नितिन कुमार पामिस्ट





दुर्भाग्य दूर करने के लिए ज्योतिष सामग्री

दुखो का अंत करने के लिए ज्योतिष सामग्री

क्या आप अपने निवास/ कार्यालय में किसी वास्तु दोष/ अज्ञात बाधा/ नजर दोष व टोटके आदि के दुश्प्रभाव से पीड़ित हैं ? क्या आप निरन्तर मानसिक अशांति/अस्थिरता/धन की कमी/बच्चो की शिक्षा में अरुचि आदि से परेशान हैं ?


काले घोड़े की नाल

यदि हां तो निम्नलिखित ज्योतिष सामग्री आपके लिए लाभदायक हो सकती है -


1. काले घोड़े की नाल अपने घर की मुख्य चौखट पर U आकार में लगायें। यदि आपके घर में आगे व पीछे दो दरवाजे हैं तो इसे दोनों दरवाजों के ऊपर चौखट पर लगायें। घर में प्रेतात्माओं के प्रवेश व ऊपरी बाधा से यह घर को सुरक्षित रखती है। इसका पूरा लाभ प्राप्त करने के लिए शनि ग्रह के मंत्र से सिद्ध कर लें।

2. अपने पूजा स्थान व धनस्थान में समृद्धिदायक श्रीयंत्र का सिक्का, भाग्यवर्धक तीन सिक्कों का सैट, तीन कौड़ियां, लघु नारियल, गोमती चक्र व इच्छापूर्ति कछुवे से युक्त सम्पूर्ण सैट एक साथ स्थापित करें।

3. घर के मुख्य द्वार पर अन्दर व बाहर की ओर पिरामिड स्वास्तिक लगायें। यह घर के अन्दर आने वाली नकारात्मक ऊर्जा को रोकता है जिससे घर में निरन्तर सुख, शांति व समृद्धि का वातावरण बना रहता है ।

4. अपने पूजा स्थान में पारद शिवलिंग व पारद श्रीयंत्र स्थापित करें। अकाल मृत्यु/ दुर्घटना, बीमारी व निराशा को दूर रखने में यह अति सहायक व लाभदायक होता है।

5. अपने पूजा स्थान में श्वेताक गणपति स्थापित करें व भगवान गणपति के मंत्र का जप करें। कार्य में अस्थिरता दूर करने, नया कार्य आरम्भ करने व नई नौकरी प्राप्त करने के लिए यह अति लाभदायक है।

6. छोटे बच्चों के गले में मोती चांद लाकेट / नजर सुरक्षा कवच डालें। बच्चों के स्वास्थ्य व नजर दोष निवारण में यह लाभदायक होता है।

7. अपने निवास / कार्यस्थल पर नर भैरवी यंत्र का प्रयोग करें | व्यवसाय में रूकावट व धन हानि को रोकने में यह सक्षम होता है । दाम्पत्य जीवन में बाधा, तनाव व निराशा का वातावरण दूर करने में भी यह सहायक होता है।

8. घर /कार्यालय पर प्रत्यंगिरा यन्त्र का प्रयोग होता है । या यन्त्र नजरदोष / तंत्र बाधा / कार्य में बंधन/दुर्घटना/अकाल मृत्यु/ लम्बी बीमारी व अन्य बाधाओं को दूर करता है।
नितिन कुमार पामिस्ट

Thursday, March 30, 2017





बंधन मुक्ति यन्त्र

गृह क्लेश के लिए बंधन मुक्ति यन्त्र

यदि आप निरन्तर प्रगति कर रहे हैं और चाहते हैं कि आपकी प्रगति निर्बाध रूप से होती रहे तो बन्धन मुक्ति यंत्र आपके लिए बहुत लाभदायक है। टोने टोटके व नजर दोष के दुश्प्रभाव को दूर करके आप के कार्यों को सुचारू रूप से चलाये रखने में यह सहायक है।

बन्धन मुक्ति यंत्र

यह यंत्र सामान्यतया जिन समस्याओं के लिए लाभदायक है, वे हैं- कर्ज मुक्ति, जमीन जायदाद के झगड़ों से छुटकारा, गृह क्लेश से मुक्ति, मानसिक अशान्ति, शत्रु नाश, नजर व टोने-टोटके से बचाव, कम्पीटीशन में सफलता, आयु वृद्धि, दुर्घटना से बचाव, लम्बी बीमारी से मुक्ति, मकान अथवा व्यावसायिक स्थल का दिशा दोष अथवा वेध दूर करना, शिक्षा में रुकावट, विवाह न होना, संतान प्राप्ति, घबराहट रहना, मेहनत का फल न मिलना, धन का अपव्यय होना तथा इसी तरह की अन्य समस्याएं। साढ़ेसाती व द्वैय्या से पीड़ित व्यक्तियों के लिए यह विशेष लाभदायक है। यह टोने-टोटके तथा विभिन्न तांत्रिक प्रभावों से व्यक्ति का बचाव करता है।

यदि पहले से उसके विरुद्ध कोई टोना-टोटका अथवा तांत्रिक क्रियाएं की गई हैं तो यह धीरे-धीरे उनके प्रभाव को समाप्त करके व्यक्ति की प्रगति में सहायक होता है। इसके प्रभाव से आर्थिक स्थिति, मान-सम्मान तथा राजनीतिक उपलब्धियों में भी काफी लाभ मिलता है। इसे स्थापित करने के लिए सर्वश्रेष्ठ समय मंगलवार को प्रात:काल अथवा शनिवार को सायंकाल है। शुभ मुहूर्त स्थापित करने के पश्चात इसके सामने प्रतिदिन प्रात:काल या सायंकाल तिल या सरसों के तेल का दीपक जलाते रहें। इस यंत्र के सामने बैठकर किया गया कोई भी मंत्रपाठ बहुत प्रभावी पाया गया है।

नितिन कुमार पामिस्ट




Ling (Penis) Pr Til Hona Samdura Shastra

Ling Par Kala Ya Bhura Til (Mole/Freckle) Hone Ke Matlab Kya Hota Hai

Yadi aapke pati ya boyfriend ke ling pr til hai to uska matlab hai ki wo aapko dokha de sakta hai kyuki aisa insaan doosari aurat ya ladki ke sath sambandh jaroor banata hai.  Aise vykti ke jeevan mein ek se adhik ladkiya/aurate hoti hai.





Yadi til andkosh (balls) mein hai to aise vkti chotti umar se hi sharirik sambandh bana leta hai.

Ling ke agrabhaag (supari/penis head) pr til ho to uska matlab hai ki aise vykti ko gupt rog hoga.





औरत के स्तन पर तिल होना | TIL VICHAR


Stan Par Til Hona
( स्त्रियो के स्तन पर तिल होना )

Jis aurat ke right breast par kala til hota hai usko ladke jyada hote hai aur ladkiya kam hoti hai santaan ke roop mein, sadharan jindgi jeeti hai aur suhagin marti hai.  Mole Meaning In Hindi or Meaning Of Til In Hindi.


Jis aurat ke left breast par laal til hota hai wo jhagralu hoti hai aur paiso aur sex ke liye jeeti hai.


Aise aurat ki mrityu bhi ho jati hai santan ko janam dete wakt aur yadi laal til hai right boob pr to aise aurat ko ladke jyada hote hai aur ladkiya kam hoti hai. Agar kala til right boob pr hai to aise aurat  badchalan hoti hai. Aise aurat ghar-parivar tabah kar deti hai doosare purush ke chakker mein pad kar ke.

Agar shahad ke color ka til right breast pr ho to shubh hota hai. Aise aurat ameer  hoti hai aur pati ka pyaar milta hai. Agar til right side par hai right breast par to aurat jhagralu hoti hai aur pati ki baijjati karne walit hoti hai. Agar til left side pr hai right wale breast pr hai to aise aurat parivarik hoti hai aur agyakari hoti hai, pati ki sevakarne wali hoti hai, dharmik hoti hai. Agar til right side par hai left breast ke to sadharan parivar se hoti hai aur sadharan jindgi hoti hai lekin helping nature hota hai.


Agar til left side par hai left breast ke to aise aurat acchi nahi hoti hai.  Aise aurat ko santaan nahi hoti hai, gareeb aur badchalan hoti hai.


Agar til left breast ke nipple ke neeche hai to aise aurat khushmijaj hoti hai, dosti karne wali hoti hai aur kam umar mein maa ban jaati hai.


Yadi til breast ke nipple ko touch karta hua ho aurat gandi hoti hai, vishwas karne layak nahi hoti hai, doosaro ke sath sex karne wali hoti hai aur ya phir ek number ki vaishya hoti hai.  


Agar til breast ke bilkul beecho-beech ho to sukhi jeevan hota hai.

Aurat ke boobs ki size aur shape se kaise pata karein uska character aur chaal-chalan ki wah aurat kaise hai. Chotte stan (breast) wali ladki ka charitra (character) kaisa hota hai aur badey boobs (istan) wali aurat ka character kaisa hota hai aur sabhi size aur shape ke breast ke barein mein yaha padein ki un istriyo/mahilao ka character kaisa hota hai -




Agar til adami ke chest pr nipple ke pass ho to usko ladkiya santan ke roop mein jyada hoti hai.


Agar til adami ke left chest par nipple ke pass ho to aisa adami gareeb hota hai, jhagralu, sharabhi hota hai.


Agar til aadami ke right chest par nipple ke pass ho to aisa adami ameer hota hai aur premi hota hai.


Agar til aadami ke center mein to ameer hota hai aur dharmik hota hai.  


Yadi aapke partner ke ling (penis) par til hai to uska kya matlab hota hai ye pata karne ke liye aap neeche diye hue link ko click karein-

Ladko Ke Guptang/Penis Mein Til Hone Ka Matlab Jaaney


Nitin Kumar Palmist




Miya Biwi Mein Pyaar Badane Ka Saral Totka



Pati Aur Patni Mein Ladaai Hone Pr Ye Upay Karein

Agar husband aur wife ke talookaat acche na ho aur roz jhagda hota ho to is upay ko karne se labh milta hai.




Pati aur Patni ko chahiye ki wo dono pati aur patni apne hath aur pair ke beeso nakhun  (20 nail of leg and hand) ko kaat le aur kisi bhi sunsaan jagah pr gadda khod kar ke un nakhuno ko us gaddey mein gaad de.


Ye karya kisi bhi din kiya ja sakta hai.

Aurat ke breast par til hona accha hota hai ya bura hota hai.  Agar aurat ya aapki patni ke cleavage ya nipple ke pass til ho to uska kya matlab hota hai aur uska aapki shaadisudha (married life) par kya asar padta hai ye jaanne ke liye neeche diye hue link ko click karein-

Ladki Ke Boobs Aur Nipple Par Til Hone Ka Matalb Jaaane

 






Instagram






   
PAlM READING SERVICE

SEND ME YOUR PALM IMAGES FOR DETAILED & PERSONALIZED PALM READING



Question: I want to get palm reading done by you so let me know how to contact you?
Answer: Contact me at Email ID: nitinkumar_palmist@yahoo.in.


Question: I want to know what includes in Palm reading report?

Answer: You will get detailed palm reading report covering all aspects of life. Past, current and future predictions. Your palm lines and signs, nature, health, career, period, financial, marriage, children, travel, education, suitable gemstone, remedies and answer of your specific questions. It is up to 4-5 pages.



Question: When I will receive my palm reading report?

Answer: You will get your full detailed palm reading report in 9-10 days to your email ID after receiving the fees for palm reading report.



Question: How you will send me my palm reading report?

Answer: You will receive your palm reading report by e-mail in your e-mail inbox.



Question: Can you also suggest remedies?

Answer: Yes, remedies and solution of problems are also included in this reading.


Question: Can you also suggest gemstone?

Answer: Yes, gemstone recommendation is also included in this reading.


Question: How to capture palm images?

Answer: Capture your palm images by your mobile camera or you can also use scanner.


Question: Give me sample of palm images so I get an idea how to capture palm images?

Answer: You need to capture full images of both palms (Right and left hand), close-up of both palms, and side views of both palms. See images below.



Question: What other information I need to send with palm images?

Answer: You need to mention the below things with your palm images:- 



  • Your Gender: Male/Female 
  • Your Age: 
  • Your Location: 
  • Your Questions: 

Question: How much the detailed palm reading costs?

Answer: Cost of palm reading:


  • India: Rs. 600/- 
  • Outside Of India: 20 USD

( For instant palm reading in 24 hours you need to pay extra Rs. 500 or 15 USD ) 
(India: 600 + 500 = Rs. 1100/-)
(Outside Of India: 20 + 15 = 35 USD) 

Question: How you will confirm that I have made payment?

Answer: You need to provide me some proof of the payment made like:

  • UTR/Reference number of transaction. 
  • Screenshot of payment. 
  • Receipt/slip photo of payment.

Question: I am living outside of India so what are the options for me to pay you?

Answer: Payment options for International Clients:

International clients (those who are living outside of India) need to pay me 20 USD via PayPal or Western Union Money Transfer.

  • PayPal (PayPal ID : nitinkumar_palmist@yahoo.in)
    ( Please select "goods or services" instead of "personal" )
  • PayPal direct link for $20 (You will get reading in 9/10 days) - PayPal Payment 20 dollars
    PayPal direct link for $35 (You will get reading in 24 hours) - PayPal Payment 35 dollars
  • Western Union: Contact me for details.

Question: I am living in India so what are the options for me to pay you?


Answer: Payment options for Indian Clients:

  • Indian client needs to pay me 600/- Rupees in my SBI Bank via netbanking or direct cash deposit.

  • SBI Bank: (State Bank of India)
       Nitin Kumar Singhal
       A/c No.: 61246625123
       IFSC CODE: SBIN0031199
       Branch: Industrial Estate
       City: Jodhpur, Rajasthan. 



  • ICICI BANK: 
      (Contact For Details)

Email ID: nitinkumar_palmist@yahoo.in




   
FREE PALMISTRY ARTICLES

In this palmistry website you will find palmistry articles in both Hindi and English languages with pictures, figures and diagrams. If you are interested in palmistry and want to become an expert then this blog will be helpful for you and guide you how to read palms.

You can learn basics of palmistry, lines on hand, signs on hand, and you can learn about Indian Palmistry here.


   
लाल किताब के प्रभावशाली टोटके


यदि आप पारिवारिक या व्यवसायिक समस्या से मुक्ति पाना चाहते है तो यहाँ दिए गए उपायो को एक बार अवश्य करें । आपको अवश्य लाभ होगा । आज अधिकतर लोग किसी न किसी परेशानी से ग्रस्त है । किसी को व्यापार में घाटा हो रहा है , किसी को नौकरी नहीं मिल रही है , कोई भूत-प्रेत या ऊपरी हवाओ से परेशान है, कोई संतान के न होने से दुखी है तो कोई भयंकर रोगो से ग्रस्त है ।

यहाँ पर प्राचीन टोन टोटके द्वारा  अनेक समस्याओ का समाधान प्रस्तुत किया गया है ।



   
राशि रत्न - Zodiac Gemstones



अपना राशि रत्न प्राप्त करें । सभी राशियों के रत्न लैब से प्रमाणित  मिलते है । यदि आप अपना राशि रत्न लेना चाहते है तो व्हाट्सप्प पर संपर्क करें ।

Whatsapp No:- 8696725894




Client's Feedback - OCTOBER 2017



If you don’t have your real date of birth then palmistry is there to help you for future life predictions.  Our palm lines, signs, mounts and shapes which are very useful in predicting the person’s life. We can predict your future from the lines and signs of your both palms. We can predict your future by studying your palm lines and signs. There is no need to send us your date of birth , time of birth , place of birth etc . Palm told the personality ,future ups and downs thus a experienced palmist can guide you to deal with upcoming challenges with vedic remedies.



   
Learn Palmistry Tutorial


Indian Palmistry Blog - Brief summery of Indian Palmistry (Hindi name of lines and signs)- Pradhan Rekhae Aur Unke Naam (Main Lines) - 1. Jeevan Rekha (Line of Life) 2. Mastisk Rekha (Line of Head) 3. Hridya Rekha (Line of Heart) 4. Surya Rekha (Line of Sun) 5. Bhagya Rekha (Line of Fate) 6. Swastaya Rekha (Line of Health) - Gaun Rekahe Aur Unke Naam (Secondary Lines) - 1. Mangal Rekha (Line of Mars) 2. Vasana Rekha/Suman (Line of Via Lascivia) 3. Vivah Rekha (Line of Marriage) 4. Atinindhriya Rekha/Chandra Rekha (Line of Intution) 5. Putra-Putri Rekhae/Santan Rekhae (Line of Sons and Daughters) 6. Bhai-bahan Rekha (Line of brothers and sisters) 7. Mitra Rekhae (Line of Friends) 8. Bandhav Rekhae (Lines of Relatives) 9. Yatra Rekahe (Lines of Travels) 10. Manibhandh Rakhae (Lines of Bracelates)(Nitin Kumar Palmist) 11. Diksha Rekha/Guru mudrika/Bhrihaspati chandrika (Ring of Soloman) 12. Shani Chandrika (Ring of Saturn) 13. Surya Chandrika (Ring of Sun) 14. Budh Chandrika (Ring of Mercury) 15. Shukra Mekhela (Girdle of Venus) 16. Vidhya Rekhae (Line of education) 17. Nikrist Rekahe (Worst Lines) 18. Prabhavik Line (Line of Influence) 19. Rahu Rekha (Line of Worry) 20. Aadi Rekhae (Vertical lines) 21. Khadi Rekhae (Horizontal lines) 22. Sahayak Rekha (Supporting Line) 23. Urdho Rekhae (All the lines ascend towards the fingers) 24. Kapi Rekha (Triangle in the end of the Life, Head, Heart, Sun and Fate Lines) 25. Sarpa Rekha (Wavy Line) 26. Kuthara Rekha (Sword like sign) 27. Machhli/Macchli Rekha (Fish tail/Fish Sign/Fish Line) 28. Khandhit Rekha (Split Line) 29. Yavmala (Chained line) 30. Gopuch Rekha (Cow tail) 31. Dweeshakayukt Rekha (Forked Line) 32. Janjirdaar Rekha (Crossed line) 33. Siddidaar Rekha (Ladder type line) 34. Kamsutra Rekha/Kamshakti Rekha (Lust Line) - Haath Pr Chinha Aur Unke Naam - 1. Gunaak Chinha(Cross Sign) 2. Nakhastra/Tara Chinha(Star Sign) 3. Trikon Chinha (Trangle Sign) 4. Varg/Chatuskaun Chinha (Square Sign) 5. Dweep Chinha (Island Sign) 6. Macchli/Matsya Chinha (Fish Sign) 7. Jaal Chinha (Grill Sign) 8. Magarmacch Chinha (Crocodile Sign) 9. Shankh Chinha (Conch Sign) 10. Khstara/Dandh/Dhvaja/Chanwar/Pataka Chinha (Flag Sign) 11. Sinhasan Chinha(Throne Sign ) 12. Dhanush Chinha (Bow Sign) 13. Kamal Chinha (Lotus Sign) 14. Parvat Chinha (Rock Sign) 15. Bhala Chinha (Spear Sign) 16. Talwar Chinha (Sword Sign) 17. Mayur Chinha (Peacock Sign) 18. Ghada Chinha (Pot Sign) 19. Darpan Chinha (Mirror Sign) 20. Trishul Chinha (Trident Sign) 21. Ped Chinha (Tree Sign) 22. Mandir Chinha (Temple Sign) 23. Swastik Chinha

Indian Palm Reading Blog (Palmistry Blog/Website) - You can learn about Lines on Hand : Marriage Line, Fate Line, Sun Line, Life Line, Heart Line, Head Line. Signs on Hand : Girdle of Venus, Trident, Trishul, Fish sign, Temple Sign, Rajyog, Triangle, Square, Island, Mole, Til, Cross and Flag Sign. You can learn Vedic or Hindu Palmistry, Hastrekha, Hast Rekha, Hastrekha Shastra, Hastrekha Gyan in this Astrology-Palmistry Blog. Free Palm Reading articles available in both English and Hindi. Also Vashikaran Totke and Mantra or Lal Kitab Totke and Upay available in both English and Hindi. Try and Tested Totke for any problem like "Apne Pyar Ko Pane Ka Totka" , "Naukari Pane Ka Mantra" , etc.